विजय कुमार तिवारी कलम से – कुजात : चिन्तन की दशा-दिशा तय करती कविताएं

समीक्षित कृति  - कुजात (कविता संग्रह) कवि   - विनोद दास, मूल्य   - रु 200/- प्रकाशक - प्रलेक प्रकाशन,मुंबई समीक्षक - विजय कुमार तिवारी कविताएं छोटी हों या बड़ी,कविता,कविता होती है और उसका आलोक सम्पूर्ण परिदृश्य को भर देता है। हर साहित्यिक विधा के केन्द्र में मनुष्य होता है,कविता...

अनुसंधान पत्रिका का कश्मीर विशेषांक: ज़िन्दगी जीने की कशमकश के बीच हौसलों के जगमगाते जुगनू

कश्मीर भारत के उत्तर में स्थित एक सुरम्य राज्य है। इसे भारत का स्विट्जरलैंड कहा जाता है। एक ऐसा राज्य जो प्राकृतिक रूप से जितना सुन्दर है,सामाजिक चेतना में जितना आगे है, राजनैतिक रूप से उतना ही प्रताड़ित और प्रभावित है। अपनी सांस्कृतिक, ऐतिहासिक...

दीपक गिरकर द्वारा ‘सियासत’ उपन्यास की समीक्षा – रियासतों और रजवाड़ों का यथार्थ चित्रण

समीक्षित कृति  : सियासत (उपन्यास) लेखक   : सुरेश कांत प्रकाशक : प्रलेक प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड, 702, जे/50, एवेन्यू-जे, ग्लोबल सिटी, विरार (वेस्ट), ठाणे, महाराष्ट्र- 401303 आईएसबीएन नंबर  : 978-93-90916-88-7 मूल्य : 299 रूपए “सियासत” वरिष्ठ और उत्कृष्ट व्यंग्यकार, साहित्यकार, कथाकार, आलोचक श्री सुरेश कांत का नवीनतम उपन्यास है। इसके पूर्व...

डॉ. नितिन सेठी का समीक्षात्मक आलेख – किन्नरों की स्वीकार्यता की संकल्पित संस्तुति

संसार में सामान्य स्त्री-पुरुष के अतिरिक्त कुछ ऐसे प्राणी भी हैं जो सामान्य तौर पर न पूरी तरह से पुरुष होते हैं और न ही पूरी तरह से स्त्री। सामान्यतया सामाजिक रूप से इन्हें हम तृतीयलिंगी के नाम से सम्बोधित करते हैं। इनके लिए...

अनिता रश्मि की कलम से – जाबिर हुसैन की पुस्तक ‘जैसे रेत पर गिरती है ओस’ की समीक्षा

पुस्तक  :  जैसे रेत पर गिरती है ओस (काव्यात्मक डायरी); रचनाकार  :  डाॅ. जाबिर हुसेन; संस्करण : जनवरी 2020; प्रकाशक  :  दोआबा प्रकाशन, 247 एम आई जी, लोहियानगर, पटना - 800006 समीक्षक : अनिता रश्मि कितना तन्हा है आसमान! मैंने अपनी आँखों में आए आँसुओं से...

प्रगति गुप्ता की कलम से – सामाजिक-पारिवारिक परिवेश में बुनी सकारात्मक कहानिया

आज घर,परिवार और समाज के माहौल में परिवर्तन आने से रिश्तों की परिभाषाओं में परिवर्तन आया है। नित नई दुविधाओं और समस्याओं का सामना करने वाला व्यक्ति असमंजस की स्थिति में है। अच्छी सोच के साथ अगर किसी प्रकार के जतन किये जाते हैं...