गलियाँ सब सूनी पड़ीं, चौराहे भी शान्त.
बच्चे गए विदेश में, ममता विकल नितांत.
जर्जर होते पट मुंदे, घर सूना दिन- रैन.
है खंडहर होता भवन, ढहने को बेचैन.
औरों की आलोचना, करते हैं भरपूर.
आत्म-मुग्ध होते रहें, रख दर्पण को दूर.
अवसादी फागुन मिला, चिंतित मिला अबीर.
खूनी होली देखकर, व्याकुल हुए कबीर.
संस्कृति निर्वसना मिली, उच्छृंखल परिवेश.
बच्चों को भाता नहीं, अब पुरखों का भेस.

रश्मि ‘लहर’
इक्षुपुरी कॉलोनी, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

3 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.