Sunday, July 21, 2024
होमकविताडॉ. ममता पंत की कविताएँ

डॉ. ममता पंत की कविताएँ

1 – सिमटता वजूद
वह टूटती है टुकड़ों में
बिखर जाती है
खुद को समेट फिर
खड़ी भी होती है
वह सिमटती ही रही अक्सर
कभी किचन
तो कभी ऑफिस में
औ’ कभी आलीशान कहे जाने वाले मकान में !
वजूद भी उसका
सिमटकर ही रह गया
क्यों सीख लेती है वह
खुद को समेटना
जहां जगह कम हो ?
2 – विडम्बना कैसी ये!
गली, मोहल्लों, सड़कों पर
डोलता वह बचपन
न मां का ममत्व
न पिता का साया
हाय रे चितेरे
कैसी निष्ठुर तेरी माया!
होनी थी सुशोभित जिन करों में
पोथियां ज्ञानार्जन की
बीनते कूड़े का ढेर वे
हाय रे चितेरे
विडम्बना कैसी ये!
गेट पर पाठशाला के
टकटकी लगाए निहारते वे
ककहरा पढ़ते
खेलते बचपन को
देख उनमें अपना ही साया
सामने सपनों की दुनिया!
भूख के कीड़े
कुलबुलाते जब
तब बिखरता सपना
भूखे ही रह जाते वे
हाय रे चितेरे
विडम्बना कैसी ये!
फटे चीथड़े देह पर
मलिन-मुख, निस्तेज-नयन
बहती अश्रुधार
न कोई पालनहार!
कोमल काया
दुपहरी में जेठ की
झुलसती निरंतर
औ’ विकल भूख पेट की
सताती आभ्यंतर
हे चितेरे!
तुम कहलाते
दया के सागर
पालनहार
दिखती नहीं तुम्हें
बेबस सी रचना
उनकी पीड़ा………
सुना है
तुम हो माहिर
रचने में लीला
पर कैसी ?
जब कृति तुम्हारी
दर-दर भटकने को है मजबूर!
हाय रे चितेरे
विडम्बना कैसी ये!
डॉ. ममता पंत
डॉ. ममता पंत
डॉ. ममता पंत असिस्टेंट प्रोफेसर हिंदी सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा पुस्तकें - आधा दर्जन के करीब पुस्तकें प्रकाशित व प्रकाशनाधीन. सम्मान - राष्ट्रभाषा सेवा रत्न पुरस्कार 2021-22; Daughter of Uttarakhand Award 2021-22. ईमेल - [email protected] मोबाइल - 9897593253
RELATED ARTICLES

2 टिप्पणी

  1. ममता! हमेशा की तरह तुम्हारी कविता संवेदना में सांसें ले रही हैं। बधाई!

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest