अंजान : ओ साथी रे, तेरे बिना भी क्या जीना...! 3
कविता लिखने का शौक़ तो कालेज के दिनों से ही था। मित्रमण्डली में बैठ कर अपनी कविताएं सुनाया करते थे। उनकी कविताओं में भोजपुरी और पूर्वांचल की बोली का पुट साफ़ दिखाई देता था। दोस्तों ने उन्हें उपनाम दिया अंजान। और वे उसी नाम से मित्रों में लोकप्रिय हो गये।
संघर्ष इन्सान को सोने की तरह तपा देता है। बनारस उत्तर प्रदेश में 28 अक्तूबर, 1930 को जन्मे लालजी पाण्डेय इसका ज्वलंत उदाहरण हैं। उनके पिता का नाम था श्री शिवनाथ पाण्डेय और माता का नाम था इंदिरा देवी। उनकी शिक्षा दीक्षा बनारस में ही हुई। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से उन्होंने बी.कॉम. की डिग्री हासिल की। उनके जीवन के बारे में अधिकांश बातें उनके सुपुत्र गीतकार समीर (शीतला पाण्डेय) के माध्यम से ही मिलती रही है।
कविता लिखने का शौक़ तो कालेज के दिनों से ही था। मित्रमण्डली में बैठ कर अपनी कविताएं सुनाया करते थे। उनकी कविताओं में भोजपुरी और पूर्वांचल की बोली का पुट साफ़ दिखाई देता था। दोस्तों ने उन्हें उपनाम दिया अंजान। और वे उसी नाम से मित्रों में लोकप्रिय हो गये।  
कहा जाता है कि अपने समय के मशहूर गायक मुकेश एक बार बनारस गये तो क्लार्क होटल में उनका एक प्रोग्राम था। डी. पैरिस होटल के मालिक शशि बाबू ने उनसे आग्रह किया कि वे एक बार  अंजान की कविताएं सुन लें। मुकेश मान गये। और अंजान जी की कविताएं सुन कर बोले, “आपको तो फ़िल्मों में लिखना चाहिये।”
अंजान जी को बनारस की आबो-हवा रास नहीं आ रही थी। उन्हें सख़्त अस्थमा की शिकायत थी।  उनके पुत्र समीर ने एक इंटरव्यू में बताया कि डॉक्टरों ने उनके पापा से कहा कि यदि आपको ठीक होना है और जीवित रहना है तो आपको यह शहर छोड़ना होगा। अस्थमा के कारण उनकी हालत बिगड़ती जा रही थी। अंततः वे बनारस छोड़ मुंबई के लिये रवाना हो गये। 
उन दिनों पैसों की तंगी थी और जीवन यापन के लिये ट्यूशन पढ़ाने का काम भी किया। उनके पुत्र बताते हैं कि पिता जी संगीतकारों से काम मांगने जाते थे मगर काम मिलता नहीं था। चार दोस्तों के साथ अंजान जी ऐरोमा गेस्ट हाउस में एक ही कमरे में रहते थे। एक समय ऐसा भी आया कि उनके दोस्त आगे बढ़ गये और अंजान उस कमरे में अकेले रह गये। भला अकेला आदमी उस कमरे का किराया कैसे देता। 
अंजान : ओ साथी रे, तेरे बिना भी क्या जीना...! 4
Anandji discussing with lyric writer Anjaan shown to user
अंजान जी ने लोकल ट्रेन का मासिक पास बनवा रखा था। उन दिनों ठीकठाक पैसों में पास बन जाया करता था। रात को सोने के लिये कोई जगह नहीं थी। बस ट्रेन में बैठ जाते और रात ट्रेन में सोते हुए गुज़ार देते। कभी कभी किसी अपार्टमेण्ट के नीचे बिस्तर बिछा कर सो रहते। 
बात 1953 की है। मुकेश अभी भी बनारस के अंजान को भूले नहीं थे। उन्होंने उनकी मुलक़ात प्रेमनाथ जी से करवा दी जो उन दिनों प्रिज़नर ऑफ़ गोलकोण्डा का निर्माण कर रहे थे। उस फ़िल्म के लिये अंजान ने पहली बार गीत लिखे। फ़िल्म चली नहीं और उसके गीत भी लोगों के दिलों में जगह नहीं बना पाए। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे प्रेमनाथ, बीना राय, राजेन्द्र नाथ, हीरालाल, आग़ा, शोभना समर्थ और कुक्कू। संगीतकार थे दत्ता दावजेकर और जगन्नाथ। इस फ़िल्म के पांच गीत अंजान ने लिखे और दो गीत प्रकाश साथी ने। अंजान के गीतों में शामिल थे – शहीदो अमर है तुम्हारी कहानी; हंसो ना बहारो ख़ुशी के नज़ारो; लहरें ये डोलें कोयल बोले; उठा के सिर चलो जवान; धमचक लग रही जंगल में। 
यानि कि अंजान साहब की संघर्षगाथा इस फ़िल्म के रिलीज़ होने के बाद भी रुकी नहीं। रेलगाड़ी की रफ़्तार से चलती रही। वे अपनी रातों की रेलयात्रा को भूले नहीं थे। काम मिलता रहा मगर न तो नाम ही मिल रहा था और न ही दाम। 
1960 में एक फ़िल्म रिलीज़ हुई लम्बे हाथ। इस फ़िल्म के हीरो थे महमूद और हिरोइन नाज़ साथ में डेज़ी ईरानी भी थीं। संगीतकार थे जी.एस. कोहली। इस फ़िल्म का एक गीत बहुत लोकप्रिय हुआ – प्यार की राह दिखा दुनियां को, रोके जो नफ़रत की आन्धी / तुम में से कोई गौतम होगा, तुम में से कोई होगा गान्धी। मगर जब तक कोई ए-ग्रेड फ़िल्म न मिले और उसके गीत हिट न हो जाएं, तब तक गीतकार का संघर्ष कहां समाप्त होता है। 
1963 में निर्देशक त्रिलोक जेतली की फ़िल्म गो-दान रिलीज़ हुई। यह फ़िल्म प्रेमचन्द के महान उपन्यास गो-दान पर आधारित थी।  इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे राजकुमार, कामिनी कौशल, महमूद, शोभा खोटे, शशिकला, टुनटुन और मदन पुरी। राजकुमार होरी बने थे और महमूद गोबर। फ़िल्म के संगीतकार थे महान सितार-वादक पंडित रविशंकर। इस फ़िल्म के लिये अंजान ने दिल लगा कर बेहतरीन गीत लिखे जिनमें भोजपुरी और पूर्वांचल की बोलियों के शब्दों का भरपूर इस्तेमाल किया। – पिपरा के पतवा सरीखा डोले मनवा, कि जियरा में उठत हिलोर, हिया जरत रहत दिन रैन हो रामा, जरत रहत दिन रैन। तारीफ़ तो बहुत मिली मगर फ़िल्म से अंजान साहब के बैंक में पैसों की खनखन नहीं सुनाई दी।
महान फ़िल्म निर्माता, निर्देशक एवं अभिनेता गुरूदत्त ने एक फ़िल्म बनाने की घोषणा की थी जिसका नाम रखा था  – बहारें फिर भी आएंगी। फ़िल्म पर काम भी शुरू हो चुका था। गुरूदत्त स्वयं ही फ़िल्म में नायक का किरदार निभाने वाले थे। उनका किरदार एक पत्रकार का था। फ़िल्म की कुछ शूटिंग हो भी चुकी थी। मगर 10 अक्तूबर 1964 को गुरूदत्त की असामयिक मृत्यु हो गयी। ज़ाहिर है कि फ़िल्म बन्द हो गयी। फिर गुरूदत्त के भाई आत्माराम ने इस फ़िल्म को पूरा करने का बीड़ा उठाया और गुरूदत्त के स्थान पर धर्मेन्द्र को लिया गया। फ़िल्म के अन्य कलाकार थे माला सिन्हा, तनुजा, देवेन वर्मा, जॉनी वॉकर एवं रहमान। संगीत था ओ.पी. नैय्यर का। इस फ़िल्म में कैफ़ी आज़मी, शेवन रिज़वी और अज़ीज़ कश्मीरी पहले से गीत लिख रहे थे। नैय्यर साब ने दो गीत लिखने का ज़िम्मा अंजान साब को दिया और दो बिल्कुल अलग मूड के दो गीत लिख कर अंजान ने अपनी लेखनी का दमख़म साबित कर दिया। पहला गीत है – आपके हसीन रुख़ पे आज नया नूर है, मेरा दिल मचल गया तो मेरा क्या कुसूर है। गीत धर्मेन्द्र पर फ़िल्माया गया था और सामने खड़ी दो बहनें (माला सिन्हा और तनुजा) प्रतिक्रियाएं दे रही थीं। यह गीत मुहम्मद रफ़ी के बेहतरीन गीतों में शामिल है। दूसरा गीत भी मुहम्मद रफ़ी ने ही गाया था मगर वो एक मज़ाहिया गीत था जिसे जॉनी वॉकर पर फ़िल्माया गया… सुनो सुनो मिस चैटर्जी, मेरे दिल का मैटर जी….
निर्माता जी.पी. सिप्पी की फ़िल्म बन्धन (1970) के लिये संगीतकार कल्याण जी आनन्द जी ने अपने प्रिय गीतकार इंदीवर के साथ साथ अंजान को भी इस फ़िल्म के लिये गीत लिखने के लिये आमंत्रित किया। यह सही मायने में बड़ी फ़िल्म थी क्योंकि इसके नायक थे सुपर-स्टार राजेश खन्ना और नायिका थीं मुमताज़। अन्य कलाकारों में शामिल थे जीवन, अचला सचदेव, अंजु महेन्द्रु, कन्हैया लाल, राजेन्द्र नाथ, बीरबल, कमल कपूर, रूपेश कुमार और संजीव कुमार। इस फ़िल्म के लिये अंजान ने अपनी प्रिय भाषा का इस्तेमाल करते हुए गीत लिखा – बिना बदरा के बिजूरिया कैसे चमके, कैसे चमके ओ कोई पूछे रे हम से। और दूसरा गीत था – आ जाओ, आ भी जाओ, हमको न यूं सताओ।
अंजान : ओ साथी रे, तेरे बिना भी क्या जीना...! 5
‘अंजान’ के बेहद लोकप्रिय गीत ‘खाई के पान बनारसवाला’ का एक दृश्य
कल्याणजी आनन्द जी से अंजान का मिलना उनके लिये जैसे अंजान साहब के लिये वरदान जैसा सिद्ध हुआ। क्योंकि आगे चल कर उनके श्रेष्ठ एवं सार्वाधिक लोकप्रिय गीत कल्याणजी आनन्द जी के संगीत निर्देशन में ही लिखे गये। उनसे मिलने के बाद ही अंजान के संघर्ष के दिनों का अन्त हो पाया।
अंजान के कुछ श्रेष्ठ गीत…
  1. आपके हसीन रुख़ पे आज नया नूर है… (बहारें फिर भी आएंगी – 1966)
  2. पिपरा के पतवा सरीखा डोले मनवा (गोदान – 1963)
  3. प्यार की राह दिखा दुनियां को (लम्बे हाथ – 1960)
  4. खाई के पान बनारस वाला (डॉन – 1978)
  5. ओ साथी रे, तेरे बिना भी क्या जीना (मुकद्दर का सिकन्दर – 1978)
  6. रोते हुए आते हैं सब, हंसता हुआ जो जाएगा (मुकद्दर का सिकन्दर – 1978)
  7. काहे पैसे पे इतना ग़ुरूर करे है (लावारिस – 1981)
  8. लुक छिप लुक छिप जाओ न (दो अन्जाने – 1976)
  9. आज रपट जाएं तो हमें ना उठइयो (नमक हलाल – 1982)
  10. छूकर मेरे मन को किया तूने क्या इशारा (याराना – 1981)
  11. इन्तहा हो गयी इन्तज़ार की (शराबी – 1984)
  12. तू पागल प्रेमी आवारा (शोला और शबनम – 1992)
  13. गोरी हैं कलाइयां, तू लादे मुझे हरी हरी चूड़ियां (आज का अर्जुन – 1990)
  14. जिधर देखूं, तेरी तस्वीर नज़र आती है (महान – 1983)
  15. मानो तो मैं गंगा माँ हूं  (गंगा की सौगन्ध – 1978)
  16. आई ऐम ए डिस्को डाँसर (डिस्को डाँसर – 1982)
जैसा कि ऊपर कहा गया है कि अंजान ने अपने बेहतरीन गीत कल्याणजी आनन्दजी के साथ लिखे और विशेष तौर पर अमिताभ बच्चन की फ़िल्मों के लिये। मगर अपने लम्बे कैरियर में उन्हें पंडित रविशंकर, ओ.पी. नैय्यर, जी. एस. कोहली, शंकर जयकिशन, लक्ष्मीकान्त प्यारेलाल, राजेश रोशन, राहुल देव बर्मन, बप्पी लाहिरी जैसे तमाम संगीतकारों के लिये गीत लिखे। फ़िल्म लावारिस का गीत – मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है… सिने-प्रेमियों के बीच बेहद लोकप्रिय हुआ।
अमिताभ बच्चन के लिये अंजान ने दो अन्जाने, डॉन, मुकद्दर का सिकन्दर, ख़ून पसीना, हेराफेरी, जादूगर, लावारिस, याराना, दो और दो पाँच, शराबी, नमक हलाल और तूफ़ान जैसी फ़िल्मों के लिये बेहतरीन गीत लिखे। वहीं ग़रीब आदमी के अमिताभ बच्चन यानि कि मिथुन चक्रवर्ती के लिये पाप की दुनियां, आन्धी तूफ़ान, इल्ज़ाम, आग ही आग और टारज़न जैसी फ़िल्मों के लिये गीत लिखे। 
पंसदीदा संगीतकार तथा गायक वर्ष 1989 में सुल्तान अहमद की फ़िल्म दातामें कल्याणजी-आनंदजी के संगीत निर्देशन में अंजान का रचित यह गीत बाबुल का ये घर बहना कुछ दिन का ठिकाना है‘, आज भी श्रोताओं की आंखों को नम कर देता है। कल्याणजी-आनंदजी के अलावा अंजान के पसंदीदा संगीतकारों में बप्पी लाहिरी, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल, ओ. पी. नैयर, राजेश रोशन तथा आर. डी. बर्मन प्रमुख रहे। वहीं उनके गीतों को किशोर कुमार, मुकेश, आशा भोंसले, मोहम्मद रफ़ी तथा लता मंगेशकर जैसे चोटी के गायक कलाकारों ने अपने स्वर से सजाया। 
गीतकार अंजान के सुपुत्र गीतकार समीर ख़ासे इमोशनल हो कर कुछ बातें साझा करते हैं। उनका कहना है कि वे तो अपने पिता को तब मिले जब वे 23 वर्ष को हो चुके थे। अंजान साहब 17 साल तक बम्बई में संघर्ष करते रहे और उनका बच्चे अपने दादा शिवनाथ पाण्डेय के यहां पले। जब तक गीतकार अंजान को सफलता मिली तब तक बच्चे बड़े हो चुके थे। 
समीर आगे बताते हैं कि जब वे अपने पिता से मुम्बई में मिले तो  उन्होंने केवल दो सवाल पूछे और दोनों ख़ासे दार्शनिक किस्म के सवाल थे। उनका पहला सवाल था, “क्या तुमने जिंदगी में कभी किसी से प्यार किया?”  मैंने जवाब दिया – हां।  उन्होंने फिर पूछा- क्यों?  मैंने कहा, “जब कोई प्यार करता है तब सोचकर नहीं करता।”  
पिता ने आगे कहा, “अब पूछो, यह सवाल मैंने तुमसे क्यों किया?”  मैंने कहा, “बताइए।”  तब उन्होंने कहा, “देखो मैं जानना चाहता हूं कि तुम सच्चे आशिक हो या भगोड़े हो। क्योंकि यह इंडस्ट्री महबूबा की तरह है, जो सच्चा आशिक होगा, वह इसे किसी भी संघर्ष में छोड़कर नहीं जाएगा। तुमने साबित कर दिया कि तुम सच्चे हो।”  
फिर उन्होंने दूसरी बात पूछी, “यहां क्या सोचकर आए हो। इंडस्ट्री जन्नत की तरह है। यहां सब हूरें मिलेंगी, पैसा मिलेगा, शोहरत मिलेगी?”  मैंने जवाब दिया, “हां।”  उन्होंने एक और सवाल दाग़ दिया, “जन्नत में जाने के लिए क्या करना पड़ता है, तुम्हें पता है…? मरना पड़ता है! इसके लिए तैयार रहो।” उनका मतलब साफ़ था कि यहां संघर्ष करना पड़ेगा।  उनकी हर बात में एक शिक्षा छुपी होती थी। उनसे हुई उस पहली मुलाकात के बाद मैं आख़री समय तक उनके साथ ही रहा। ज़िंदगी के बारे में मुझे नहीं लगता कि किसी और ने उनसे बेहतर फ़िलॉसफ़ी लिखी होगी – “जिंदगी तो बेवफा है एक दिन ठुकराएगी…।”   
गीतकार अंजान ने अपने चार दशक से भी अधिक लंबे सिने कॅरियर में क़रीब 300 फ़िल्मों के लिए 1500 गीत लिखे। अंजान को अचानक लकवा मार गया था और अपने अंतिम चार पाँच साल बिस्तर पर ही रहे।  बीमारी के चलते भी उनके जीवन का पहला कविता संग्रह गंगा तट का बंजारा पूरा किया। उसका प्रकाशन हुआ और उसका लोकार्पण उनके प्रिय सितारे महानायक अमिताभ बच्चन ने किया। 
एक लंबे अर्से तक हिन्दी सिनेमा को अपने गीतों से संवारने वाले अंजान का 67 वर्ष की आयु में 13 सितम्बर, 1997 को निधन हो गया। उन्हें जीवन भर बस दो ही अफ़सोस रहे। पहला कि उन्हें कभी किसी गीत के लिये फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार नहीं मिला और दूसरा अफ़सोस यह रहा कि एक साहित्यकार के नाते वे समाज को कुछ न दे पाए। उन्हें इन बातों की पीड़ा रही।
मगर प्रसन्नता इस बात की थी कि वे अपने जीवन में ही अपने सुपुत्र समीर की सफलता देख पाए और उसे फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिलने की ख़ुशी महसूस कर पाए। वे अपनी बायोग्राफ़ी भी लिखना चाहते थे… मगर सेहत ने साथ न दिया। वे हंसते हुए यह दुनियां छोड़ कर गये और मुकद्दर के सिकन्दर बन गये। 
तेजेंद्र शर्मा
लेखक वरिष्ठ साहित्यकार, कथा यूके के महासचिव और पुरवाई के संपादक हैं. लंदन में रहते हैं.

3 टिप्पणी

  1. आदरणीय, नमन आपकी लेखनी संघर्ष में तप कर निखरे इंसानों
    की बयानी है।अंजान पर समग्र लिखकर आपने उन्हें जाना पहचाना कर दिया है।
    आभार
    प्रभा

  2. फ़िल्मी गीतकारों पर आप यह रोचक श्रृंखला प्रस्तुत कर रहे हैं।हृदय से बधाई व साधुवाद। गीतकारों का संघर्ष और सफलता आपकी लेखनी के रास्ते हमारे सामने आकर जीवन्त हो उठते हैं।
    अनजान अब हमारे लिए अनजान नहीं रहे, आपके शोधपूर्ण आलेख ने उनसे हमारी जान-पहचान करवा दी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.