Sunday, July 21, 2024
होमसाहित्यिक हलचलकेंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया 44 साल पुराने ‘पुनर्वास’ अखबार के...

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया 44 साल पुराने ‘पुनर्वास’ अखबार के न्यूज़ पोर्टल का लोकार्पण

उस दिन  नई दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब के स्पीकर हॉल के नजारे देखते ही बनते थे। जब 11 जनवरी को  राजनीतिक, साहित्यिक, पत्रकारिता, कला संस्कृति  और सिनेमा टीवी की कई हस्तियां यहां एक साथ मौजूद थीं। मौका था वरिष्ठ और जाने माने पत्रकार प्रदीप सरदाना के 44 साल अखबार ‘पुनर्वास’ के न्यूज़ पोर्टल, ‘पुनर्वास ऑन लाइन डॉट कॉम’ का लोकार्पण।
‘पुनर्वास’ का प्रथम प्रकाशन प्रदीप सरदाना के संपादन और सुप्रसिद्ध लेखक और  कवि डॉ हरिवंश राय बच्चन के संरक्षण में मार्च  1978 में हुआ था।  हालांकि कुछ समय बाद तब ‘पुनर्वास’ का  प्रकाशन बंद करना पड़ा। प्रदीप सरदाना एक एक करके देश के सभी प्रतिष्ठित प्रकाशन समूह के साथ रेडियो टीवी से भी जुड़ते चले गए। लेकिन ‘पुनर्वास’ को वह भूले नहीं। पत्रकारिता की अपनी के व्यस्तताओं के बावजूद 1993 में उन्होने  ‘पुनर्वास’ का पुनर्वास कर इसका पुनर्प्रकाशन आरम्भ कर दिया। अव वही ‘पुनर्वास’ अपने डिजिटल अवतार में सामने आया है।
‘पुनर्वास ऑन लाइन डॉट कॉम’  लोकार्पण समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी थे।
जबकि समारोह में लोकसभा सांसद मनोज तिवारी,दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा,जाने माने कवि सुरेन्द्र शर्मा, अशोक चक्रधर,दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव उमेश सैगल, प्रसिद्द चिकित्सक डॉ ए एस दवे, प्रतिष्ठित प्रभात प्रकाशन के प्रमुख प्रभात कुमार, प्रसिद्द सिनेमाटोग्राफर राजेन्द्र सिंह, फिल्मकार अरविंद स्वामी, गीतकार विनोद शर्मा और दिल्ली के विधायक ओमप्रकाश शर्मा और अभय वर्मा सहित कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे। कार्यक्रम का शानदार संचालन समीक्षक और टीवी पेनलिस्ट स्तुति सरदाना ने किया।
गडकरी ने पुनर्वास न्यूज़ पोर्टल का उद्दघाटन करने के बाद कहा – मुझे लगता है अब राजनीति पत्रकारिता से लोग ऊब गए हैं। ये विवाद वो विवाद। इस नेता ने क्या कहा, उसने क्या कहा। इसमें अब लोगों की दिलचस्पी नहीं है। यह डिजिटल युग है। अब लोग ज्ञान चाहते हैं, जानकारी चाहते हैं। आज की  युवा पीढ़ी है  नवीनता चाहती है, शोध चाहती है। क्या नया हो रहा है,क्या बड़ा हो रहा है,लोगों की दिलचस्पी इसमें है। ऐसे में प्रदीप जी ने पुनर्वास को डिजिटल किया इसके लिए मैं उन्हें बधाई देता हूँ।
गडकरी ने कहा मुझे विश्वास है कि ‘पुनर्वास’ की तरह पुनर्वास ऑन लाइन डॉट कॉम भी सफल होगा।
कार्यक्रम में एबीपी न्यूज़  डिजिटल के संपादक अब्दुल वाहिद आज़ाद,सांध्य टाइम्स के संपादक ललित वर्मा, रोजगार समाचार,प्रकाशन विभाग के संपादक जय सिंह,वाल्ट डिज्नी कंपनी इंडिया के सहयोगी निदेशक प्रवीन त्रिखा, एक्सपर्ट मीडिया नेटवर्क के गोपेन्द्र भट्ट, वरिष्ठ पत्रकार टिल्लन रिछारिया, विनोद बहल, कार्टूनिस्ट उदय शंकर,दिल्ली भाजपा के सोशल मीडिया प्रमुख रोहित उपाध्याय और   इफ्को के पूर्व उप महाप्रबंधक घनशाम दास सहित अन्य कई गणमान्य व्यक्ति शामिल हुए।
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest