मां भारती कविता महायज्ञ एक विश्व कीर्तिमान 3
माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के स्वतंत्रता दिवस पर दिए गए वक्तव्य में हिंदी के प्रचार प्रसार पर दिए गए विचार से प्रेरित होकर हिंदी को विश्व के भाषाई पटल पर सुशोभित एवं गौरवान्वित करने हेतु हिंदी पखवाड़े के अवसर पर दिनांक 31 अगस्त, 2021 से 14 सितम्बर 2021, हिन्दी दिवस तक मां भारती कविता महायज्ञ आयोजन- एक अंतरराष्ट्रीय अबाध हिंदी कविता पाठ, विश्व के 28 देशों के हिंदी कवियों द्वारा द मैजिक मैन एन चन्द्रा-फेसबुक पेज एवं यू ट्यूब चैनल, एक अहिंदी भाषी श्री नरेश चंद्र जोशी एवं उनकी पत्नी एवं पटल की सह निदेशक श्रीमती नीता जोशी जी द्धारा स्थापित हिंदी भाषा को समर्पित पटल ने आयोजन को मूर्त रुप देने का संकल्प लिया जिसकी प्रबंध निदेशक, शिक्षाविद् एवं कवियत्री श्रीमती पूनम सागर हैं। इस आयोजन की अध्यक्षता विश्व विख्यात व्यंग्यकार डॉ.हरीश नवल जी ने की। इस अयोजन के प्रतिदिन 4 स्लॉट्स क्रमशः ए, रात 12 बजे से सुबह 6 बजे तक, बी, सुबह 6 बजे से दोपहर 12 बजे तक, सी, दोपहर 12 बजे से शाम 6 बजे तक, एवं डी, शाम 6 बजे से रात 12 बजे तक में बांटा गया। कविता पाठ भारत, जापान, अमरीका, ओमान, सूरीनाम, आस्ट्रेलिया, हॉलैंड, मॉरिशस, अफगानिस्तान, कनाडा, फिलीपींस, इंग्लैंड, साउदी अरब, दुबई, सिंगापुर, जर्मनी आदि देशों के कवियों द्वारा दिन रात 24X7X14 लगभग 363 घंटे चला।
डॉo रामदरश मिश्र जी एवं श्री बाल स्वरूप राही जी के आशीर्वाद से इस अयोजन का उद्घाटन 31 अगस्त को हुआ। लगभग 520 से अधिक कवि एवं 100 से अधिक संचालक इस महायज्ञ का हिस्सा बने। इस महायज्ञ में आहुति देने वाली साहित्यिक विभूतियों में श्री दिविक रमेश, श्री प्रताप सहगल, श्री लक्ष्मी शंकर वाजपेयी, श्रीमती अलका सिंहा, पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा जी, पद्मश्री सुरेश दुबे जी, बुद्धिनाथ मिश्र जी से लेकर  देश विदेश के प्रख्यात और नवोदित कवियों ने अपनी काव्य आहुतियां समर्पित कीं। आयोजन में काव्यपाठ के लिए विभिन्न देशों से कवियों के आवेदन इतनेअधिक आने लगे कि अंतिम दो दिन 12 और 13 सितंबर को विशेष समानांतर स्ट्रीमिंग भी करनी पड़ी। इस आयोजन ने देश विदेश की हिंदी साहित्यिक दुनियाँ को एक नई दिशा प्रदान की है।
इस आयोजन को विभिन्न पत्रिकाओं, समाचार पत्रों, न्यूज़ चैनल्स, सोशल मीडिया, साहित्य प्रेमियों की निरंतर प्रशंसा प्राप्त हो रही है। इनमें सर्वाधिक उल्लेखनीय प्रशंशा पत्र लोक सभा,भारत के अध्यक्ष महोदय एवं हिंदी शिक्षण कला मण्डल, शिक्षा मंत्रालय, दिल्ली द्वारा पटल को प्रेषित पत्र हैं। यह आयोजन हिंदी दिवस के सुअवसर पर 14 सितंबर को संध्या काल सम्पन्न हुआ जिसमें अंतिम दो आहुतियां पटल की प्रबंध निदेशक, पूनम सागर एवं अध्यक्ष डॉo हरीश नवल के कविता पाठ से प्रदान की गईं। पूर्णाहुति भारत के पूर्व केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉo रमेश पोखरियाल निशंक जी द्वारा सायं काल 7:30 बजे संपन्न हुई। इसके तुरंत बाद मां भारती कविता महायज्ञ के समापन समारोह का आयोजन हुआ जिसमें भारत के वरिष्ट गीतकार, पत्रकार डॉo धनन्जय सिंह मुख्य अतिथि रहे। विशिष्ट अतिथियों में डॉo पुष्पलता अवस्थी, हॉलैंड, डॉo राज हीरामन, मॉरिशस एवं श्री इंद्रजीत शर्मा, अमरीका से उपस्थित रहे।
यह विश्व में किसी भी भाषा में किया गया प्रथम अयोजन है जो शानदार तरीक़े से सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ जिसको विश्व कीर्तिमान के रूप में  वर्ल्ड बुक ऑफ़ रेकार्ड् में दर्ज़ किया गया है। वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स, लंदन के सौजन्य से 25 अक्तूबर को इंदौर, मध्यप्रदेश में आयोजित अभिनंदन समारोह में मां भारती कविता महायज्ञ आयोजन के अध्यक्ष डॉo हरीश नवल, प्रबंध निदेशक श्रीमती पूनम सागर, निदेशक श्री नरेश चंद्र जोशी को हिंदी को विश्व के भाषाई पटल पर स्थपित करने के लिए सम्मान पत्र, स्मृति चिन्ह इत्यादि से सम्मानित किया गया। इस शानदार कार्यक्रम में लंदन से वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स, लंदन, के चेयरमैन श्री दिवाकर सुकूल, केंद्रीय मंत्री श्री रामदास अठावले, श्री अखिलेश मिश्र, भारतीय राजदूत, आयरलैंड, श्री शंकर लालवानी, सांसद, लोक सभा, इंदौर, श्री वरुण कपूर, ए डी जी, मध्य प्रदेश, मेजर जनरल अरविंद कपूर, श्री संतोष शुक्ला, सुप्रीम कोर्ट, एडवोकेट प्रेजिडेंट एवं सी ई ओ सहित बॉलीवुड से प्रख्यात गायक उदित नारायण, प्रसिद्ध गीतकार श्री समीर अंजान आदि तमाम गणमान्य हस्तियां उपस्थित थीं।

1 टिप्पणी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.