Sunday, June 16, 2024
होमकविताअनूप सैनी 'बेबाक' की कविता - नया साल

अनूप सैनी ‘बेबाक’ की कविता – नया साल

नया साल
आया है आज
चला जायेगा कल
यूँ ही जैसे
होती है सुबह रोज
ढलती है शाम
और आती है रात
लेके तारें अगणित
फिर क्या है नया
जो मना रहे हैं जश्न
सब खो के एक साथ
यूँ हो के मगन
क्या कर रहे हैं
जो नया है
अभिनव है
क्या है ऐसा जो
दे सकते है हम समाज को
जो ले जाये हमें आगे और आगे
जिसमें निहित हो
शक्तियां नव सर्जन की
निहित हो सब का कल्याण
जो धोने वाला हो मैल
मन की
मिटाने वाला हो फासले
दिलों के
जो बढ़ाने वाला हो प्रीत
मिटाने वाला हो भावना वैर की
उड़ा दे जो गर्द  जमीं है
जो रिश्तों पर
आ जाये उनमें फिर से
वो मिठास, वो रवानी
जो छुड़ाए कुरीतियां
समाज की
बढ़ाये भाई चारा देश में
जो तोड़ दे बंधन
जात पांत के
जो मिटा दे भेद देश धर्म का
सिखा दे पाठ भ्रातृ भाव का
जहाँ पट जाए खाई
गरीबी और अमीरी की
जहाँ पानी पिएँ सब
एक ही घाट का
जहां मिटे अंधेरा अज्ञानता का
ज्ञान की फिर इक लौ जले
जो नया है उसे ग्रहण करें
और जो पुराना है
उससे शिक्षा लें
छोड़ कर भावना तेरी मेरी
‘हम’ का भाव एक साथ चले
बचना सीखें बुराइयों से हम
अच्छाई ग्रहण करते चलें
फिर जो सुबह होगी वो
शिव होगी, सुन्दर होगी
सार्थक होगा फिर अपना
नव वर्ष मनाना।।
अनूप सैनी बेबाक
अनूप सैनी बेबाक
हिंदी व्याख्याता, झुंझुनूं, राजस्थान मोबाइल - 9680989560 ईमेल - sainib35@gmail.com
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest