Wednesday, May 22, 2024
होमकवितात्रिलोक सिंह ठकुरेला की कलम से फागुन के कुछ दोहे

त्रिलोक सिंह ठकुरेला की कलम से फागुन के कुछ दोहे

जाने किसमें मन रमा, किससे लाग विहाग ।
जाने किस पर रीझकर, खुशियाँ बांटे फाग ।।
केश,कपोल,कपाल,कुच, पेट,पृष्ठ,परिधान ।
फागुन ने सब कुछ रंगा, मन में छेड़ी तान ।।
सर्द गर्म फागुन हुआ, उड़ी याद की गर्द ।
कभी मिलन का सुख भरे, कभी विरह का दर्द ।।
चोली, लहंगा, चूनरी, सब में भरी उमंग ।
फिरे चुटीला झूमता, फागुन के क्या  रंग ।।
फिर संयम डगमग हुआ, प्रेम फिर गया जाग ।
फागुन मतवाला हुआ, रह रह गाये फाग ।।
पीली चूनर ओढ़कर, धरती हुई सकाम ।
मस्त हवाएँ दे रहीं, फागुन का पैगाम ।।
नयना जादूगर हुए  , देह हुई कचनार ।
फागुन छूकर दे गया, मुक्त-प्रेम-उपहार ।।
फागुन संक्रामक हुआ, बांटे प्रेम-बुखार ।
मन ढूँढे ऐसी जड़ी , जिससे हो उपचार ।।
कौन नहीं है प्रेम में,पशु-पक्षी,नर-नारि ।
फागुन के  द्रुम झूमते , पाकर प्रेम-बयारि ।।
फागुन ने ऐसा छुआ, तन-मन उठें  तरंग ।
अजब खुमारी छा गयी, बिना पिये ही भंग ।।
त्रिलोक सिंह ठकुरेला
त्रिलोक सिंह ठकुरेला
त्रिलोक सिंह ठकुरेला समकालीन छंद-आधारित कविता के चर्चित नाम हैं. चार पुस्तकें प्रकाशित. आधा दर्जन पुस्तकों का संपादन. अनेक सम्मानों से सम्मानित. संपर्क - trilokthakurela@gmail.com
RELATED ARTICLES

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest

Latest