Friday, June 21, 2024
होमकवितारश्मि लहर की ग़ज़लनुमा कविता

रश्मि लहर की ग़ज़लनुमा कविता

ज़िंदगी में अनमने कुछ मोड़ आये हैं
अश्क़ का ऊँचा घराना छोड़ आये हैं।
इक परायापन दिखा अपनों में भी जब से
शबनमी संगत से नाता तोड़ आये हैं।
बेअदब व्यवहार में मुझको  दिखे वो जब,
घर में उनके कुछ सलीके छोड़ आये हैं।
हर घड़ी बंदिश विचारों पर मिली हमको
एक बल माथे का अब घर  छोड़ आये हैं।
कब कहा था कैद रिश्तों में करो आकर्,
रुढ़ियों की बेड़ियाँ अब तोड़ आये हैं।

टूटने के दौर में किरचों से क्या डरें!
क्या गिनें दर्पण पे कितने जोड़ आये हैं।

हाथ की बैसाखियाँ छोड़ें भला अब क्यों,
तमगे एहसानों के भारी छोड़ आये हैं।
थे सुहागन स्वप्न तो श्रंगार भी कर के,
इक चिता उनकी जलाकर छोड़ आये हैं।
माथ गंगा जल लगा अपना विसर्जन भी
कर दिया और हाथ दोनों जोड़ आये हैं।
आँसुओं से द्वार धोकर हम चले थे फिर
देहरी  दीपक जलाकर छोड़ आये हैं।
रश्मि लहर
रश्मि लहर
संपर्क - leher1812@gmail.com
RELATED ARTICLES

1 टिप्पणी

  1. रश्मि जी अच्छी गजल है आपकी।
    कुछ शेर जो अच्छे लगे-

    बेअदब व्यवहार में मुझको दिखे वो जब,
    घर में उनके कुछ सलीके छोड़ आये हैं।

    हर घड़ी बंदिश विचारों पर मिली हमको
    एक बल माथे का अब घर छोड़ आये हैं।

    टूटने के दौर में किरचों से क्या डरें!
    क्या गिनें दर्पण पे कितने जोड़ आये हैं।

    आँसुओं से द्वार धोकर हम चले थे फिर
    देहरी दीपक जलाकर छोड़ आये हैं।,

    हमें गजल की ज्यादा जानकारी नहीं किंतु जो शेर अच्छा लगता है,जिसका भाव अच्छा लगता है वही लिख देते हैं।
    बधाई आपको।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest