Saturday, May 18, 2024
होमकविताडॉ. हर्षा त्रिवेदी की तीन कविताएँ

डॉ. हर्षा त्रिवेदी की तीन कविताएँ

1- अपनी अनुपस्थिति से 
अपनी अनुपस्थिति से
उपस्थित रहा
तुम्हारे ज़श्न में
और तुम्हें
लज्जित होने से
बचा पाया ।
अपने मौन से
भेज पाया
अपनी शुभकामनाएं
तुम्हारे लिए
प्रेम के कुछ अक्षत
तुम्हारी ज़िद्द को
बिना तोड़े ।
इसतरह
मिलता रहता हूँ
बिना मिले
कई सालों से
और
निभाता हूँ
कभी तुमसे
किया हुआ वादा ।
2 – क्योंकि वह जानता था
वह प्रश्न
किसी दर्द से गुजरे बिना
निरर्थकता की प्रतिष्ठा के लिए
अंत तक तटस्थ था ।
किसी भी सत्य को
वह झुठला सकता था
क्योंकि वह जानता था
कि सत्य
गढ़े जाते हैं
अनुभवों के आकाश में
दृष्टि की
कलम से ।
लेकिन उसकी तटस्थता
उसकी मज़बूरी थी
कोई आत्मबल नहीं
ये वो लोग हैं
जो झाँककर
अनुमान लगाते हैं
और चले जाते हैं
तटस्थ रूप में ।
3- लौटना 
अगर लौट आऊँ
तुम्हारे पास
तो उपहार में
तुम्हें तकलीफ़ें दूँगा
फ़िर तुम्हारे प्रश्नों के उत्तर में
मेरा मौन होगा
मेरा लौटना
क्या तुम्हारे लिये
यातनापूर्ण होगा ?
फ़िर
न लौटूँ तो !
बिडम्बना !!
मैं यातना और बिडम्बना के बीच
तुम्हें बचाना चाहता हूँ ।
तुम थोड़ी संभावनाएं तलाशो
वो खिड़की खोल दो जिससे
सुबह की धूप आती है
और वह छोटी काली बिंदी
लगाया करो
कि अच्छी लगोगी।

डॉ हर्षा त्रिवेदी
स्थायी निवास : उदयपुर,राजस्थान।
विद्या वाचस्पति : पद्मश्री “दयाप्रकाश सिन्हा के नाटकों का अनुशीलन” (मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय, उदयपुर से)
प्रकाशन :
मौलिक पुस्तकें : सहारों का बंधन ( हिंदी नाटक) , नाटककार दयाप्रकाश सिन्हा, शब्द संधान ।
शोध आलेख : राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठित शोध-पत्रिकाओं/ पुस्तकों में 25 से अधिक शोध आलेख प्रकाशित ।
उपलब्धि : 30 से अधिक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठिओं विशेषकर संयुक्त राष्ट्र संघ, जिनेवा में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए “Existential and functional harmony between the man and the nature: A Rigvedik Phenomenon ” विषय पर पत्र-वाचन,
राष्ट्रीय उच्च अध्ययन संस्थान,राष्ट्रपति निवास, शिमला से Associate
विशेषज्ञता : हिन्दी नाटक, फिल्म पटकथा लेखन एवं अभिनय में विशेष रूचि । राजसमंद विकास किरण,एन अनलकी डे, भूत एन अनटोल्ड स्टोरी,नो रूल्स आदि शार्ट फिल्मो का पटकथा लेखन ।
सम्प्रति : विवेकानंद इंस्टिट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज-TC ( गुरू गोविंद सिंह इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय दिल्ली से संबद्ध ) पीतमपुरा,दिल्ली में सहायक आचार्य हिंदी के रूप में 2018 से कार्यरत।
संपर्क : harsha.trivedi@vips.edu
           मो. 8005862479
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest

Latest