विपदाओं को पीठ दिखाना कर्म नहीं है मानव का
बिना लड़े ही प्राण गंवाना धर्म नहीं है मानव का
मौत भले आयी हो सर पर दूर भागने लगती है
मानव प्रण के सम्मुख विपदा स्वयं कांपने लगती है
अगर बढ़ाकर हिम्मत थोड़ा मन की बात कही होती
मन हल्का कुछ हो जाता फिर निश्चित मौत नहीं होती
सबके जीवन में संकट कोई न कोई रहता है
साहस नहीं तोड़ता जिससे हर संकट को सहता है
सुख दुख है जीवन का संगम इससे कोई बचा नहीं
जिसने हार मान ली दुख से उसने कुछ भी रचा नहीं
मातु पिता को नहीं पता था क्या देना क्या लेना है
जिसको पाला पोस अब तक उसको कंधा देना है
मंजिल पाने के हित में शोलों पर पैर धरे होते
पाते सह अनुभूति मेरी यदि अपनी मौत मरे होते
मेरी कलम चला करती है स्वाभिमान के आदर में
मेरी कविता लिप्त नहीं  रण छोड़ भाग के जाने में 
यह कविता है बूढी आँखों के बेबस लाचारी की
बीच सफर में छोड़ गये जो केवल उस नाराजी की
यह कविता है मातु पिता के पावन उन संबंधों पर
जिनपर उनको जाना था वह लाश रखी जिन कंधों पर
डॉ. प्रियंका मिश्रा
कॉलेज के दिनों से ही राजनीति, अभिनय और साहित्य के अभिन्न संगम को सहेजे हुए डॉ प्रियंका मिश्रा वर्तमान में युवा कवयित्री, कहानीकार, आलोचक और कलाकार के रूप में पूर्ण सक्रिय हैं। इनकी अनेक रचनायें हिंदी की विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं। वर्तमान में डॉ प्रियंका मिश्र दिल्ली विश्वविद्यालय के सत्यवती कॉलेज (सांध्य) के हिंदी विभाग में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर कार्यरत हैं। संपर्क - Priyadarshnimishra85@gmail.com

2 टिप्पणी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.