Sunday, June 23, 2024
होमकवितारश्मि बजाज की कविता - आमार सोनार बांग्ला

रश्मि बजाज की कविता – आमार सोनार बांग्ला

‘आमार सोनार बांग्ला’
है आज मात्र
एक स्वप्न-लोक ‌–
तैरते हैं जहां लहरों पर
रवींद्रसंगीत के राजहंस,
छिटकी है चारों ओर
शांति निकेतन
शीतल शांतिदा चांदनी,
गूंजती है सुरलहरियों में
रविशंकर की सितार,
अली अकबर खान के संतूर की मनोरम जुगलबंदी,
थिरकता है कण-कण में
चैतन्य महाप्रभु की महाचेतना का नृत्य,
गमकती है परमहंस की
मूर्त-अमूर्त होती देवी मां की परिकल्पना,
भासित हैं कोलकाता से न्यूयॉर्क तक
विवेकानंद के अध्यात्म और‌ मानवता के अमूल्य रत्न,
स्पंदित है माटी में
बंकिम का वंदे मातरम ,अरविंदो का दिव्य दर्शन...
एक दु:स्वप्न है
आज का बंगाल
सरस स्वर- लहरियों , झंकृत वाद्ययंत्रों को निगलते
बमों,बंदूकों के कर्णभेदी विस्फोट,
निरीह स्त्रियों के गगनभेदी आर्तनाद,
धुएं, बारूद के कफ़न में
लिपटता जा रहा पूरा भूखंड,
‘सिटी ऑफ सौरो’ में
तब्दील होता ‘सिटी ऑफ जॉय’!
ऐ मेरे बंगाल के बच्चे,
ऐ मेरे बंगाल के युवा,
तुम कभी नहीं जान पाओगे
तुमने क्या-क्या खोया
और कितना वंचित हुआ
न सिर्फ बंगाल
यह समूचा जंबूद्वीप !
कोई दयार
ना ऐसे उजड़े
जैसे उजड़ा
आमार सोनार बांग्ला!
रश्मि बजाज
रश्मि बजाज
लेखिका कवि व समालोचक हैं।
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest