लैंप पोस्ट के पास रात के अँधेरे में
वह खड़ी थी किसी का इंतज़ार करती
हाथ में एक बेग लिए , बड़ा-सा काला
कभी उसे कंधे पर झुलाती कभी हाथ में
लैंप पोस्ट की झीनी-झीनी सुनहरी रौशनी में
छरहरी काया और नितम्बों तक लहराते बाल
जैसे मौजें अंगड़ाई ले रहीं हों दूसरे किनारे
जिन्हें वह बार-बार सवाँरती हुई घड़ी देखती
कभी पीछे मुड़ती ,कभी इधर-उधर कुछ टटोलती
सड़क के दूसरी ओर मैं खड़ा था बस के इंतज़ार में
सड़क लगती मानों दोनों के बीच समुंदर का फ़ासला
साँझ के बाद गहरी रात से पहले चाँद ने दस्तक दे दी थी
उसकी रंगत में रौनक भर आई थी चाँद की किरणों में
उसकी सफ़ेद ड्रेस और दुपट्टा चाँदनी में नहा गया
वह सहज होने की कोशिश कर रही थी या डरी हुई
सामने चाँद और मैं चकोर एक कशिश रूह में उतरती
कुछ नहीं था फिर भी क्यों रिश्ता जुड़ता महसूस हो रहा था
मैं हर रोज़ इसी शहर, इसी सड़क,  इसी वक्त आता हूँ
आज कुदरत के साथ इस मंजर, इस लम्हे में बंध गया हूँ
कोई इशारा दे रहा है, रुक जाओ आज यहीं थोड़ी देर।
लैंप पोस्ट के पास खड़ी लड़की शायद बैचेन है मैंने सोचा
मुझे एहसास हुआ मैं भावनाओं में यूँही बहकर दूर निकला।
बस आती दिखी ,मैं चला उधर ,ठहरा, अब बस चली गई
कोसने लगा खुद को,जैसे पानी का ज़र्रा देख धुप को बौखलाए।
वह थी अब भी वहीँ , अब उसने बस के जाने के बाद मुझे देखा
मेरा दिल जोर से धड़का ,क्या सोचती होगी सड़क छाप मंजनू।
लड़की की देह ने लहराना बंद कर दिया और तन गई मुझे देख।
तभी एक कार तेज़ी से आती दिखी,लड़की मुड़ी हाथ दिखाती
मानो चेता रही सँभल जाओ, उस कार में से दो जिस्म बाहर आए
कार की दूसरी ओर कुछ हुआ,कार तेज़ी से घूम नदारत हुई
उस लड़की की छरहरी काया लुढ़क पड़ी सड़क किनारे चीखती
लैंप पोस्ट के पास रात के अँधेरे में सूनसान सड़क पर
अब मैं भागा तेज़ी से सड़क का समुन्दर पार करता उधर
मजनुओं की तरह उस अनजान रिश्ते को अंज़ाम  देता
उसकी चीख बंद हो चुकी थी और मेरी गूँजती  वातावरण में
सुबह ही अखबार में पढ़ा था, लड़कियों के ख़िलाफ बढ़ती हिंसा !!!
जन्म इंदौर, मध्यप्रदेश में हुआ। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से गणित, विज्ञान में स्नातक और समाज शास्त्र में स्नातकोत्तर । भारत और दुबई में रहने के बाद वर्तमान में अमेरिका के शर्लोट शहर में रहती हैं। कई लेख, कविताएँ ,लघु कहानियाँ ,कहानियाँ , समीक्षाएँ वेबदुनिया ,विभोम स्वर ,गर्भनाल ,हिंदी चेतना, प्रवासी भारतीय ,द कोर ,सेतु ,अनुसन्धान पत्रिका , पुष्पगंधा, माहीसन्देश और साहित्यकुंज पत्रिका में प्रकाशित। लेखन के अलावा चित्रकला , नृत्य और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सक्रिय भागीदारी। प्रथम कविता संग्रह "सरहदों के पार दरख़्तों के साये में " शिवना प्रकाशन के द्वारा प्रकाशित। साहित्यिक,सांस्कृतिक,सामाजिक संघ "प्रणवाक्षर " द्वारा श्रेष्ठ रचनाकार २०२१ से सम्मानित। संपर्क - 704.975.4898, rekhabhatia@hotmail.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.