1 – नगर के देवता
खण्डहर बस्ती शहर उजड़ा हुआ
आदमी हर ओर से उखड़ा हुआ
ये नज़र तेरी नगर के देवता।
उड़ वनांचल से पखेरू आ गए
वे धवल पाखी गगन में छा गए
फिर चली बन्दूक से कुछ गोलियाँ
गोलियों में दब गई सब बोलियाँ।
पँख बिखरे शेष कुछ छींटे लहू के
ये डगर तेरी नगर के देवता।
हम अदब से पेश थे दरबार में
फिर सिमट के रह गए घरद्वार में
फिर निशाचर बस्तियों में बस गए
नर्म गर्दन पर शिकंजे कस गए।
आ रहे बच्चे उठाए हाथ ईंट
गेरू हरे में लाल लहू के छिटके छींट
लेंगे ये खबर तेरी नगर के देवता….
2 – ज़हर मोहरा पास में रखिये
क्यों उछाले नाग काले
होश खोती बस्तियों में
ये हवाएँ सर्पदंशी लग रही हैं
ज़हर मोहरा पास में रखिए।
गाँव लेते हैं उबासी, शहर सोते
चार ओझा घूमते हैं ज़हर बोते
व्यर्थ सब संवेदना है
वर्जनाएँ लोकध्वंसी लग रही हैं
ज़हर मोहरा पास में रखिए।
तोड़ते बच्चे खिलौने, साँप बुनते
ये न बुलबुल, कोकिलों के गीत सुनते
कहर ढाया बस्तियों में
नीतियाँ नित नागवंशी लग रही हैं
ज़हर मोहरा पास में रखिए।
लोक विषपायी स्वयं में खो गए हैं
सब पड़ोसी नीलकंठी हो गए हैं
राख होती बस्तियाँ हैं
आँख में मणिकर्णिका सुलग रही है
ज़हर मोहरा पास में रखिए।

रिंकू चटर्जी ‘गीतांजलि’
प्रकाशित कृतियाँ
कलम से क्रांति तक (कविता संग्रह)
समाचार समाप्त हुए (कहानी संग्रह)
तीसरे लोग (उपन्यास)
मन पाखी बंजारा (उपन्यास)
नदी मरती नही (उपन्यास)
पुनरपि मरणम् (उपन्यास)
सम्मान एवं पुरस्कार
उपन्यास तीसरे लोग’ को 2013 में गुजरात हिंदी साहित्य अकादमी द्वारा सर्वश्रेष्ठ नवल कथा सम्मान। उपन्यास ‘नदी मरती नही’ मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा सम्मानित एवं पुरस्कृत। 2023 में सर्वश्रेष्ठ काव्य हेतु गुजरात हिंदी साहित्य अकादमी द्वारा सम्मानित। अन्य अनेक सम्मान व पुरस्कार। चार दशकों से हिंदी लेखन में रत। प्रथम कविता 1980 में कादम्बिनी में प्रकाशित एवं पुरस्कृत।
संप्रति – भारतीय नौसेना की पत्रिका ‘वरुणि’ का सम्पादन।

2 टिप्पणी

  1. सर्वप्रथम पुरवाई टीम को हृदयतल से आभार। पुरवाई में छपी रचनाएँ मन को सहज ही स्पर्श कर जाती हैं। अन्य लेखकों की रचनाओं से बहुत कुछ सीखने को मिलता है। पुरवाई को मेरी शुभेच्छा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.