(1)
खूबसूरत शहर
_____________
ऐसे ही नहीं छोड़ा था उन्होंने
वह खूबसूरत शहर
जिसकी सुन्दरता पर उन्होंने
गवाँ दीं थीं जीवन की आधी सांसें
ऐसे ही नहीं छोड़ीं थीं उन्होंने
आसमां छूने को मचलतीं
उन्मत्त अट्टालिकाएं
जिनकी पीठ पर चढ़कर वह हुईं थीं इतनी बड़ीं
ऐसे ही नहीं छोड़ आए थे वह सड़क के किनारे की झुग्गियां
झुग्गियों में पड़ी चारपाईं और फूटे हुए वर्तन
जिन्हें जोड़ने में न जाने कितने दिन
लादीं थीं उन्होंने कितनी ही मंजिलें अपनी पीठ पर
ऐसे ही नहीं वह, टांग लाए थे अपनी पीठ पर
उदय होते, सौभाग्य के उस सूर्य को
निगलने को जिसका तेज
बढ़ रहा था धीरे-धीरे, भयावह अन्धकार
ऐसे ही नहीं घसीट लाए थे वह,नंगे पैरों
खूबसूरत शहर से उन अधूरे स्वप्नों को
जिनको पूरा करने लिए छोड़ आए थे वह
आंगन में सिसकती ममता और बचपन का सुख
क्यों कि वह नहीं चाहते थे मिट्टी होना
अपनी मिट्टी से सैंकड़ों कोस दूर
उस खूबसूरत शहर में
लावारिस मिट्टी की तरह ।
(2)
कविता धिक्कारती है तुम्हें
______________________
जूते के तल्ले की तरह उघड़ते तलवे
और पीठ पर भविष्य को लादे पथराई आंखें
जिनमें दम तोड़ती जिजीविषा व सांसें गिनते स्वप्न
जिन्हें देख यह कतई नहीं कहा जा सकता
कि उनकी पद यात्रा ठीक वैसी थी
जैसी होती है उन महानुभावों की
जिनके स्वागत में खड़े रहते हैं न जाने कितने चौराहे
लेकर फूलों के हार
सड़कें ओढ़ लेती हैं जिनके लिए मखमली अम्बर
पाकर आगमन की सूचना
फुटपाथ जिनके अभिवादन में हो जाते हैं पंक्तिबद्ध
करने को पुष्प वर्षा
गलियां दौड़ पड़तीं हैं नंगे पांव, लेकर षटरस व्यंजन
पाने को जिनकी कृपा दृष्टि
आज सूरज के थपेड़ों से उदास
क्रोधाग्नि में जलती वह सड़क
जिस पर आशा की एक बूंद और एक निवाले को मोहताज
अस्तित्व के लिए संघर्षरत जीवन
जिसे पत्थर बन देखता वह शहर
शहर की संवेदनहीन गलियां और फुटपाथ
जिन्हें लगता है मार गया लकवा
तो सुनो
तुम्हें कोई धिक्कारे
या न धिक्कारे
कविता धिक्कारती है तुम्हें
तुम्हारी संवेदन हीनता पर
तुम्हारे दोहरे चरित्र पर ‌।
अरविन्द यादव
पाखी, समहुत, कथाक्रम,अक्षरा, विभोम स्वर ,सोचविचार, सेतु , समकालीन अभिव्यक्ति, किस्सा कोताह, तीसरा पक्ष, ककसाड़, प्राची, दलित साहित्य वार्षिकी, डिप्रेस्ड एक्सप्रेस, विचार वीथी, लोकतंत्र का दर्द, शब्द सरिता,निभा, मानस चेतना, अभिव्यक्ति, ग्रेस इंडिया टाइम्स, विजय दर्पण टाइम्स आदि पत्र- पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित. सम्पर्क - arvindyadav25681@gmail.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.