विवेक रंजन अग्निहोत्री लंदन के हाइड पार्क में.... 5“अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता…”

– रवि शर्मा (लंदन)

ब्रिटेन की राजधानी लंदन के केन्द्र में, ऊँच- ऊँची बिल्डिंगों से घिरा है विशाल “हाइड पार्क“। इस पार्क में दूर तक फैली हरियाली, नौका विहार के लिए नदिया के आकार का साफ़ पानी वाला ताल… ऊँचे ऊँचे वृक्ष, चौड़ी सड़कें, कैफ़े, पार्किंग और एक ख़ास कॉर्नर जो दुनिया भर में मशहूर है। इसे कहते हैं “स्पीकर्स कॉर्नर”।

गत रविवार 12 जून 2022 को इसी स्थान पर पाँच सौ हिंदुस्तानियों के एक जनसमूह को, “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता” पर जागरूक बनाते हुए मुझे बड़ा गर्व अनुभव हुआ। वस्तुतः यहाँ फ़िल्म “कश्मीर फ़ाइल्स” के निर्माता, विवेक रंजन अग्निहोत्री का भाषण रखा गया था, परंतु वे एक घंटा लेट हो गए और भीड़ समेत पूरा कार्यक्रम मेरे हवाले कर दिया गया। …

हाइड पार्क में अभिव्यक्ति की आज़ादी का कोना है “स्पीकर्ज़ कॉरनर”। बड़ा गौरवमय इतिहास है इस जगह का। यहाँ कोई भी व्यक्ति आ कर अपनी बात कह सकता है। कार्ल मार्क्स और नेल्सन मंडेला जैसे नेता यहाँ बोल चुके हैं।
कोई स्टेज नही, कोई माईक या भोंपू नही। दस बीस पचास सुनने वाले तो मिल ही जाते हैं। हमारे लिए तो पाँच सौ आ गए थे।

नूपुर शर्मा प्रकरण ने हिंदुस्तानियों को और भी अधिक एकजुट कर दिया है। विवेक अग्निहोत्री और पल्लवी जोशी पधारे।विवेक रंजन अग्निहोत्री लंदन के हाइड पार्क में.... 6 कश्मीर फ़ाइल्स फ़िल्म के अतिरिक्त अग्निहोत्री जी ने भारतीय संस्कृति पर भी प्रभावी व्याख्यान दिया। भीड़ में पीछे दो चार पाकिस्तानी भी अपना चाँद सितारे वाला झंडा लिए नज़र आए। पुलिसकर्मी भी मौजूद थे। आस पास थोड़े फ़ासले पर कुछ और वक्ता भी स्टूल पर खड़े हो कर अपनी बात कह रहे थे।कोई एशिया से था तो कोई अफ़्रीका से। कोई धर्म को ले कर तो कोई राजनीति पर अपनी भड़ास निकाल रहा था।

विवेक रंजन अग्निहोत्री का भाषण दरअसल ऑक्स्फ़र्ड यूनियन में होना था… लेकिन अंतिम समय पर उसे स्थगित कर दिया गया। अब यहाँ हाइड पार्क के स्पीकर्स कॉर्नर में खूब जमा। डिजिटल रेकॉर्डिंग ने उसे सोशल मीडिया पर भी तुरंत फैला दिया। लंदन के इस स्थान पर ना समय की सीमा होती है और ना विषय की पाबंदी। स्वजन की या दुश्मन की, बात आपके मन की, यहाँ खुल के कही जा सकती है। सही माने में यहाँ पर है – अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता। 

1 टिप्पणी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.