Saturday, May 18, 2024
होमहलचलआशीष मिश्रा की कलम से - ब्रिटेन में गणेशोत्सव की धूम

आशीष मिश्रा की कलम से – ब्रिटेन में गणेशोत्सव की धूम

ब्रिटेन  में गणेश उत्सव बड़े धूम धाम से मनाया जाता हैअगर देखें तो पिछले दो दशक से ऐसे आयोजन भारतीय मूल के लोगों में बहुत लोकप्रिय हुए है विशेषकर मेनचेस्टर, लेस्टर, बिर्मिंघम, लंदन, ग्लास्गो आदि शहरों में।  लोग सार्वजनिक रूप से तो मनाते ही हैं बल्कि बड़ी मात्रा में वे अपने घरों में भी गणेश जी की प्रतिमा की स्थापना करते हैं जिसके माध्यम से परिवार व मित्रगण एक दुसरे के घर आते जाते हैं, एक प्रेम और सौहार्द का वातावरण बनता है।
लन्दन के बिलकुल नज़दीक एक शहर है स्लाओ (Slough) , यहाँ का गणेश महोत्सव बहुत लोकप्रिय है। स्लाओ मित्र मंडल नाम की संस्था 2010 से लगातार गणेश उत्सव का कार्यक्रम करती आ रही है और उनका उद्देश्य ब्रिटेन में रह रहे भारतीय समुदाय में अपनी कला एवं संस्कृति को बनाये रखना है। वे ये कार्य्रक्रम हिन्दू कल्चरल सोसाइटी के साथ मिलकर करते है। 

 

इसबार भी यह विशाल व भव्य आयोजन  16 सितंबर से 23 सितम्बर तक आयोजित किया गया जिसमें लन्दन, रेडिंग, न्यूबरी, ऑक्सफ़ोर्ड आदि शहरों से लोग सपरिवार सम्मिलित हुए। इस वर्ष यहाँ गणेश महोत्सव को महाभारत में श्री कृष्ण द्वारा दिये गये गीता उपदेश की रूप रेखा में किया गया, जिसमें मूसक को अर्जुन के रथ वाहन करते दिखाया गया।
मंदिर प्रांगण में अपने इष्टदेव गणेश की वैभवपूर्ण मूर्ती देखकर लोग स्वतः सुन्दर मनोभाव में खो जाते और गणपति बप्पा मोरया के जयघोष से पंडाल गूँज उठता। पूरे पांच दिन तक भारतीयता और भारतीय संस्कृति की झलक बनी रही।
प्रतिदिन सुबह, दोपहर शाम भक्तों का भारतीय परिधान में आगमन रहा, वे अपने गणेशा के दर्शन और उनके प्रति श्रद्धा, प्रेम उड़ेलते रहे।

सायं काल में पंडाल की छठा और भी बढ़ जाती थी जब बच्चे से लेकर हर आयु वर्ग, समुदाय या परिवेश के लोग गणेशा के सामने अपनी कला, नृत्य और संस्कृति को प्रदर्शित करते। बच्चों से हर रोज़ श्लोक, भजन, ड्रॉइंग प्रतिस्पर्धा, डांस (बॉलीवुड या क्लासिकल), टैलेंट शो और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कारों का भी प्रबंध किया गया। रुचिकर बात यह थी की हर संध्या आरती के बाद हज़ारों भक्तों को स्वादिष्ट भोजन कराया गया। 

आयोजक मंडल के सदस्य मंदार मिराशी, आनंद पंडित, अदिश देसाई, निलेश देशपांडे, सचिन नेमाने, योगी चवान ने बताया कि पांचवे दिन लोगों ने भरे लेकिन शांत मन से, संतोष के भाव से अपने ईश गणेश जी की प्रतिमा का पास की ही जुबली नामक नदी में विसर्जन किया। पूरे आयोजन में लगभग 5000 लोगों ने भाग लिया। किसी भी कार्यक्रम की सफलता उसके आयोजकों द्वारा लिया गया प्रारूप और उसका योजनाबद्ध तरीके से क्रियान्वयन होता है। हर बार की तरह इस बार के भी सफल और सुन्दर आयोजन कर स्लाओ मित्र मंडल संस्था ने लोगों का दिल जीत लिया। 
इसी प्रकार का आयोजन कई अन्य शहरों में मनाया गया। हर जगह लोगों का उत्साह और अपनी संस्कृति के प्रति सम्मान पूर्णता में दिखा। कुल मिलाकर ब्रिटेन के लगभग हर शहर के भारतीय समुदाय ने गणेशउत्सव को हर्ष और उल्लास के साथ मनाया। चाहे वे व्यक्तिगत रूप से या सार्वजनिक रूप हो, गणपति की वैभवता निरंतर व्याप्त रही और अगले वर्ष गणपति के पुनः आगमन की आस्था प्रबल हुई।
आशीष मिश्रा
आशीष मिश्रा
संपर्क - ashish24mishra@gmail.com
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest

Latest