15 सितंबर, 2023, लंदन में हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य पर “हिन्दी युवा संगम” आयोजित किया गया जिसमें 16 से 22 वर्ष के आयु वर्ग के युवा सम्मिलित हुए। यह कार्यक्रम ब्रिटेन की प्रसिद्ध संस्था “संगम” ने नेहरू सेंटर में आयोजित किया। कार्यक्रम को प्रमुख संस्था कथा यूके, अंतरराष्ट्रीय कवि संगम का भी साथ मिला। भारतीय उच्चायोग, लंदन ने भी कार्यक्रम में सहभागिता की।
कार्यक्रम में युवाओं ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। किसी ने स्वरचित कविता सुनाई तो किसी ने सुप्रसिद्ध कवियों की कृति, किसी ने कोई लेख या किसी ने महत्वपूर्ण विषय पर अपने विचार रखे। 
कार्यक्रम में मिनिस्टर समन्वय श्री दीपक चौधरी जी एवं माननीय ब्रिटिश सांसद श्री Virendra Sharma जी की गरिमामयी उपस्थिति रही।
कथा यूके के महासचिव एवं वरिष्ठ साहित्यकार MBE श्री तेजेंद्र शर्मा जी, भारतीय उच्चायोग से हिन्दी अधिकारी डॉ नन्दिता साहू जी एवं ब्रिटेन के लोकप्रिय व्यक्तित्व श्री रवि शर्मा जी ने कार्यक्रम के सफल आयोजन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। इन्होंने सभी युवाओं की प्रस्तुतिओं का स्वतंत्र मूल्यांकन भी किया। कार्यक्रम और भी पावन बन गया जब भारत से सुप्रसिद्ध राम कथा वाचक राजन जी महाराज भी कार्यक्रम में पधारे।
कार्यक्रम का संचालन श्री आशीष मिश्रा ने किया। कार्यक्रम के संयोजक श्री ज्ञान शर्मा ने बताया की पूरे कार्यक्रम को छः टीमों में बाँटा गया जिनके नाम भारत की छः नदियों पर थे गंगा, गोदावरी, कावेरी, नर्मदा, ब्रह्मपुत्र और यमुना। हर टीम में दो युवाओं को रखा गया। इस तरह बारह प्रतिभागियों ने कार्यक्रम को अपनी प्रस्तुतियों से सुंदर बना दिया। 
जिन प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया वे हैं देवांश झा, सायरा ख़ान, सात्विकी पांडेय, महक चंदेल, जाह्नवी शर्मा, अभिराज सिंह, 
स्नेहा चौबे, इशिका पांडेय, कृष्णन अचारी, राहुल सेठीया, सपना ठाकुर एवं रोमा काकरान। सभी की प्रस्तुति एक पर एक। सभी की प्रस्तुतियों ने श्रोताओं को मग्दमुग्ध कर दिया। दर्शकों की करतल ध्वनि से निरंतर सभागार गूंजता रहा। 
जूरी टीम से श्री तेजेंद्र शर्मा जी एवं डॉ नन्दिता साहू जी ने अंत में पुरस्कारों की घोषणा की जिसमें प्रथम पुरस्कार सोलह वर्षीय कृष्णन अचारी, द्वितीय पुरस्कार श्नेहा चौबे, तृतीय पुरस्कार राहुल सेठिया को दिया गया। इसके अलावा सभी प्रतिभागियों को प्रशस्ति पत्र, ट्रॉफी आदि से सम्मानित किया गया। 
कार्यक्रम को ब्रिटेन की अन्य संस्थाएँ जैसे कथा यूके, IDUK से हिरदेश गुप्ता, आलोक गुप्ता, अजय मुरुड़कर, UPCA से मधुरेश मिश्रा, अश्विनी श्रीवास्तव, राजेश विश्वकर्मा, अभी योगी, मध्यप्रदेश एसोसिएशन यूके से विनायक, अंतरराष्ट्रीय कवि संगम, बिहारी कनेक्ट से उद्देश्वर सिंह, गुरुकुल यूके से इन्दु बरोट, Phoenix से राज रावत, MATV, जलाराम कैटरर – रिकुल पटेल, सिटी स्वीट आदि का सहयोग मिला।
सभागार श्रोताओं से लबालब रहा, उनकी उत्सुकता निरंतर युवा प्रतिभागियों में बनी रही। आयोजक संस्था संगम के अन्य आयोजक मण्डल के सदस्य जैसे संतोष पांडेय, योगेश एवं स्मिता पांडेय ने कार्यक्रम को सफल बताया। अंत में श्री ज्ञान शर्मा ने हिन्दी के लिए ऐसे कार्यक्रम करते रहने के अपने संकल्प को दोहराया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.