Friday, June 21, 2024
होमकवितासदानंद पॉल की कविता - बाबूजी का थैला

सदानंद पॉल की कविता – बाबूजी का थैला

होश सँभालने से अबतक,
थैले ढो रहे हैं बाबूजी;
बचपन में स्लेट व पोथी लिए
थैले ढोये थे बाबूजी;
कुछ बड़े हुए, तो उसी थैले में
टिकोले चुनते थे बाबूजी;
उमर बढ़े, उसी थैले में मिट्टी खिलौने भर
बेचने, मेले जाते थे बाबूजी;
कुम्हारगिरी से गुजारे नहीं, तो दर्ज़ीगिरी लिए
उसी थैले में कपड़े लाते थे बाबूजी;
फिर टेलीफून भरकर उसी थैले में ले
खंभे निहारते थे बाबूजी;
गार्ड बन उसी थैले में
घर के लिए सौगात लाते थे बाबूजी;
पचास साल तक उसी थैले में
चिट्ठियाँ ढोते रहे बाबूजी;
उसी थैले में खुद के और मेरे भाई-बहनों लिए
लाई-मिठाई लाते रहे बाबूजी;
रिटायर हुए फिर भी, रफ़ू कर-कर उसी थैले में
रोज सब्जी ढो रहे बाबूजी;
इस थैले के चक्कर में
माँ को सिनेमा, कभी दिखा नहीं पाए बाबूजी;
इस थैले के चक्कर में
कहीं घूम-फिर नहीं सके बाबूजी;
पर इस थैले ने हम चारों को
जीने का सही सपने दिए हैं बाबूजी;
अब घुटने दरद के बाद भी
थैले ढोते हैं बाबूजी;
सत्तर पार तो कब के हुए,
थैले को, तकिये नीचे रख सोते बाबूजी;
उस थैले को शत-शत नमन,
कि शतायु नाबाद रहे, मेरे प्यारे बाबूजी।
सदानंद पॉल
सदानंद पॉल
संपर्क - s.paul.rtiactivist75@gmail.com
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest