होम कविता मीना शर्मा ‘मनु’ की कविता – कुछ पंक्तियाँ बेटियों के नाम

मीना शर्मा ‘मनु’ की कविता – कुछ पंक्तियाँ बेटियों के नाम

0
196
घुटनों चलकर कब बड़ी हो जाती हैं बेटियां
कब अपने पैरों पर खड़ी हो जाती हैं बेटियां
पिता की प्यारी औऱ माँ की राज दुलारी होती हैं बेटियां
बहुत अच्छा लगता जब जन्म लेती हैं बेटियां
किन्तु——-
एक हूक सी उठती है जब विदा होती हैं बेटियां
इस सत्य में भी तो छिपा एक सत्य
दो घरों के रिश्ते भी निभाती हैं बेटियां
सूना सा लगता है वो घर
जहां नहीं होती चहचाहट
खाली सा भी लगता है वो घर
जहां वधू बनकर नहीं जातीं हैं बेटियां
न होती ये बेटियां
घर में कौन सजता
कौन सँवरता
कोन करता नखरेबाज़ी
सृष्टि का  प्रारंभ हो तुम
नए रिश्तों की नई रीत हो तुम
करती हो सबको समृद्ध
इस ज़मी पर कल का भविष्य
हो तुम
अगर यह सच है कि बेटा भाग्य है
तो मित्रो–यह भी सच है कि-
बेटी सौभाग्य है, बेटी सौभाग्य है
पूछो कीमत उनसे
जिनको नहीं मिली ये सौगात
जिनको नहीं मिला यह सौभाग्य
सच कहती है यह  मनु तुमसे
सुख का आधार है बेटी
जीने का सार है बेटी
सुकर्मों का फल है बेटी
न होती बेटी तो रह जाते
रिश्ते, घर, परिवार अधूरे
रह जाती यह कायनात अधूरी
बदरंग रह जाती यह सृष्टि
इस लिए बेटी दिवस पर ही नहीं
सदैव नमन करो बेटी को
बेटी ही
हम सब की
आन बान  और शान है
रिश्तों की जान है

कोई टिप्पणी नहीं है

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.