Saturday, May 18, 2024
होमHomeपरदेसी पांखी - लघुकथाएं

परदेसी पांखी – लघुकथाएं

-ऐ भाई साहब,  जरा हमार चिट्ठिया लिख देवें ,,,
-हां , लाओ , कहो , क्या लिखूं ?
-लिखें कि अबकि दीवाली पे भी घर नाहिं आ पाएंगे ।
-हूं । आगे बोलो ।
-आगे लिखें कि हमारे तबीयत कछु ठीक नाहिं रहत । इहां का पौन पानी सूट नाहिं किया ।
-बाबू साहब । इसे काट देवें ।
-कयों ?
-जोरू पढि के उदास होइ जावेगी।
– और क्या लिखूं ?
– दीवाली त्यौहार की बाबत रुपिया पैसे का बंदोबस्त करि मनीआर्डर भेज दिया है । बच्चों को मिठाई पटाखे ले देना और साडी पुरानी से ही काम चलाना । नयी साडी के लिए जुगत करि रह्या हूं ।
-हूं ।
-काम धंधा मिल जाता है । थोडा बहुत लोगन से पहिचान बढ गयी है । बड़के को इदर ई बुला लूंगा ।  दोनों काम पे लग गये तो तुम सबको ले आऊंगा । दूसरों के खेतों में मजूरी से बेपत होने का डर रहता है ।अखबार सुनि के भय उपजता है । इहां चार घरों का चौका बर्तन नजरों के सामने तो होगा । नाहिं लिखना बाबूजी । अच्छा नाहिं लगत है ।
-कयों ?
-जोरू ने क्या सुख भोगा ?
– और तुमने ?
– ऐसे ई कट जाएगी जिंदगानी हमार । लिख दें सब राजी खुशी । थोडा लिखा बहुत समझना । सबको राम राम । सबका अपना मटरू। पढने वाले को सलाम बोलना ।
-कमलेश भारतीय
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest

Latest