‘ रा.व.ना.काव्य-मंच’ ‘(गुजरात इकाई ) का वार्षिक-समारोह एवं  काव्य-गोष्ठी सम्पन्न 
——————————-
गुजरात में साहित्यिक हलचल - एक रपट 3ईसवी सन् 2016 में, देश-विदेश में हिंदी-काव्य के माध्यम से घर-घर हिंदी-कविता की अलख जगाने वाले विद्वान कवि आ. श्री नरेश ‘नाज़’जी द्वारा स्थापित राष्ट्रीय संस्था रा.व.ना.काव्य-मंच  की गुजरात इकाई का वार्षिक-समारोह एवं  आभासी काव्य-गोष्ठी का कार्यक्रम  दिनांक 25/10/2021 को सायं 4:00 बजे से प्रारंभ होकर सायं 7:00बजे संपन्न  हुआ।
इस कार्यक्रम  में मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती नियति नाज़ जी ने मंच को सुशोभित किया। काव्य-गोष्ठी की अध्यक्षता  डॉ. प्रणव भारती ने की जो कि गुजरात इकाई की अध्यक्षा भी हैं।
श्रीमती मधु प्रसाद द्वारा लिखित व स्वरबद्ध रा.व.ना.काव्य-मंच की गुजरात इकाई के लिए लिखे गए गीत एवं श्री अशोक कौशिक तथा सुश्री प्रमिला कौशिक द्वारा रचित सम्मान गीत के वीडियो के प्रदर्शन के  पश्चात सुश्री प्रमिला कौशिक द्वारा माँ शारदे की वंदना की गई ।
इस अवसर पर आदरणीय नाज़ जी की गरिमामय उपस्थिति संस्था के सदस्यों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनी रही।
तत्पश्चात् संस्था की गुजरात इकाई की अध्यक्षा डॉ. प्रणव भारती  ने आदरणीय नाज़ सर  व मुख्य अतिथि सुश्री नियति जी का पुष्प-गुच्छ से स्वागत किया। उन्होंने मंच पर आमंत्रित कवियों व अन्य सभी उपस्थित  क़लमकारों का स्नेहपूर्ण स्वागत किया।
इस गोष्ठी में 22 शब्द-शिल्पियों ने काव्य -पाठ किया । जिनमें आ. नाज़ सर ,सुश्री नियति जी (मुख्य अतिथि) डॉ.प्रणव भारती ,सुश्री मंजु भटनागर , सुश्री मधु सोसि, सुश्री मधु प्रसाद, श्री चन्द्र मोहन तिवारी, सुश्री कुमुद वर्मा, सुश्री प्रमिला कौशिक  ,सुश्री रेनू शर्मा (आमंत्रित कवयित्री),  श्री आत्म प्रकाश, डॉ. ख़ामोश भागिया, सुश्री मधु माहेश्वरी, डॉ. मीरा राम निवास, सुश्री अंजना गाँधी, सुश्री जानकी पालीवाल, सुश्री रश्मि सारस्वत, सुश्री विभा पसारी, सुश्री प्रतिभा पुरोहित, श्री महेश सोनी, श्री अजीत पारेख  एवं सुश्री सरला सुतारिया जैसे समर्थ कवि-कवयित्रियाँ सम्मिलित  रहे ।
गोष्ठी की रचनाओं में विभिन्न काव्य-विधाओं  एवं विभिन्न रसों का सुंदर समन्वय रहा  ।
नाज़ जी ने संस्था की गुजरात इकाई के कार्यक्रमों पर संतोष जताया और कवियों को आशीर्वाद दिया । तत्पश्चात  डॉ. प्रणव भारती ने अध्यक्षीय वक्तव्य देते हुए सभी कवियों की रचनाओं पर सकारात्मक एवं संक्षिप्त टिप्पणी कीं और साथ ही प्रभावशाली काव्य -पाठ भी किया।
श्री आत्म प्रकाश जी एवं सुश्री मधु प्रसाद के अद्भुत व  प्रभावशाली संचालन की मुख्य अतिथि  द्वारा भूरि-भूरि प्रशंसा की गई।
संस्था के सचिव एवं वरिष्ठ गीतकार श्री चन्द्रमोहन तिवारी  ने अतिथियों, संचालकों व संयोजिका व सभी रचनाकारों का धन्यवाद ज्ञापन किया।
सुश्री कुमुद वर्मा द्वारा “सर्वे भवन्तु सुखिनः” की कामना के साथ  स्वस्तिक वाचन से गोष्ठी का समापन हुआ।
रिपोर्टः
चंद्रमोहन तिवारी, (सचिव -रा.व.ना.काव्य-मंच)
गुजरात इकाई

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.