Wednesday, May 22, 2024
होमहलचलदेवी नागरानी की कलम से - आज बेटियों का स्वागत है

देवी नागरानी की कलम से – आज बेटियों का स्वागत है

“तू आई तो हुआ सवेरा, आ बिटिया अभिनंदन तेरा “
यह मैं नहीं, आज की अबला माँ नहीं, जयपुर के प्रवासी नगर में स्थित प्रेमलता हॉस्पिटल के निदेशक डॉ बजरंग सोनी का एक अनूठी मिसाल के तौर पर मनाये हुए उत्सव का नमूना है. उत्सव का ख़र्च भी अस्पताल ही उठाता है। यह उनके नर्सिंग होम का ध्येय वाक्य है :
जयपुर के सुप्रसिद्ध साहित्यकार प्रबोध कुमार गोविल और बनस्थली विद्यापीठ की पूर्व डीन डॉ इंदु बंसल इस अवसर पर विशेष अतिथि रहे जिन्होंने इस अनूठे जन्मोत्सव पर केक काट कर बालिकाओं को हॉस्पिटल की ओर से उपहार भी प्रदान किए। यह एक नूतन प्रयास ही नहीं, पुख्तगी से उठाया हुआ एक ऐसा क़दम है जो देश की बेटियों के इस अभियान की पहल करते हुए अपना पाँव लक्ष्य पाने की ओर आगे बढ़ा रहा है. 
बीते साल दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के चलते ये संभव नहीं हो पाया। अतः अब लॉकडाउन खुलने के बाद इस दौरान जन्म लेने वाली कई बच्चियों का जन्मदिन एक साथ भारी हर्षोल्लास से मनाया गया। प्रबोध कुमार गोविल जी ने कहा कि समाज बेटी को पराया करके दूसरे घर में भेज देता है और बेटों के भरोसे ये भ्रम पालता है कि वंश चल रहा है। ये कोरा छलावा है। ये मात्र रस्म, रिवाज़, संस्कृति या परंपरा नहीं है, सड़ी गली रूढ़ि है जिससे छुटकारा पाना किसी भी समाज के लिए ज़रूरी है। यह रस्म केवल इसलिए बनी होगी ताकि लोग लड़की को सुरक्षा देकर पालने की ज़िम्मेदारी से बच सकें। यह नारी का ऐलान भी है जो गूँज बनकर सुधा ओम ढींगरा के शब्दों में ललकार रहा है:
मैं ऐसा समाज निर्णित करूंगी
जहाँ औरत सिर्फ़ माँ, बेटी 
बहन, पत्नी या प्रेमिका ही नहीं  
एक इंसान, सिर्फ़ इंसान हो
उसे इसी तरह जाना
पहचाना और परखा जाए.
नारी के अंतर्मन में जब सोच की ऊर्जा उथलपुथल जब मचाती है तब उस बवंडर के दौर में कलम की रवानी को कौन रोक सकता है?
अपने  घर परिवारपरिवेश से जुड़ी नारी का अपना एक अलग परिवेश होता है, दिल के कोने में एक और कमरा रहता है जहां जिए गए पलों की व्यथागाथा, कशमकश के दौर की संकरी वादियां होती है। यहां नारी मन अपनी मर्जी से उसमें जब चाहे टहल सकता है, उन दीवारों के साथ समय बिता सकता है और वहीं अपने अहसासात को कलमबंद भी कर लेता है। यही वह दौर होता है जहाँ वह अपना वजूद तलाशती हैअपनी पहचान से परिचित होना चाहती है और कलम के माध्यम से मधुबन को सींचती है जहां सुमन के साथसाथ खार भी खिल उठते हैं.
 उसी शब्द सुमन को श्रृंगारित रूप से सजाती, अपनी ऊर्जा का प्रमाण पेश करती हुई आज की नारी इस विषय पर अपनी कलम चला रही है, अपने होने का ऐलान कर रही है। फिर चाहे वह काव्य सरिता हो, या कहानी संग्रह का स्वरुप हो, या नॉवल के रूप में अपनी मनोभावों को सामने बखूबी रख रही है। मन की माला भी फिरतेफिरते यही कहती है कि अपनी पहचान को दर्ज करने कराने के लिए इससे बेहतरीन, प्रतिष्ठामान और ताज़ातरीन कौन सी सौगात हो सकती है?
मन की घायल दशा को शायद शब्द भी पूरी तरह से जब बयां नहीं कर पाते, तब लेखिका चिता मुद्गल जी की कलम यूं चीख चीख कर अपनीआतंकवादनाम की रक्तरंजित कविता में ऐसे अल्फाज़ को माध्यम बनाकर मन की वेदनात्मक स्तिथि को बयाँ कर रही है: 
सुबह सुबह जब मैं 
अखबार आँखों के सामने फैलाती हूँ
शब्द-शब्द अपनी कोख को क़त्ल हुआ पाते है। 
लेखक क्यों लिखता है, कहाँ से प्रेरणा पाता है, क्या उसका लेखन समाज की स्तिथियों में हस्तक्षेप करेगा, या कर पायेगा, ऐसे कई सवाल आज भी उनके बिखरी हुई मनोअवस्था पर उभर रहे हैं। 
उन बच्चों के माथे पर कुछ नहीं लिखा होता, जिनका भविष्य आज के अमानुषता के हाथों बलि चढ़ जाता है, एक ऐसी जो अपनी संकुचित सोच से बीच की दीवारें, भीतर गहरे अनेक दरारें चौड़ी कर जाती हैं, जब भ्रूण हत्या के किस्से सामने आते है, जब पुत्र को एक वंशज के रूप में पाने के लिए लड़की के भ्रूण का गर्भपात करवाया जाता है, यह एक अमानानीय अवस्था है। ज़ालिम हैं वे लोग, हत्यारे हैं वे हाथ जो इस कार्य को जाने किस लालच में अंजाम देते है। पुरातन पीढ़ी की सिकुड़ती सोच में बेटियाँ तो खोटे सिक्के समान होती हैं, जिनका मूल्य है भी, और नहीं भी। बेटे ही वे खरे सिक्के हैं जो बाज़ार में चलते हैं, नस्ल भी उन्हीं से चलती है. इसी दबी हुई राख तले की चिंगारी को हवा देते मुंबई की साहित्य सेवी डॉ. अनीता ठक्कर अपनी कविता कश्मीरी औरत में लिखती हैं: 
कश्मीरी औरत माँ बनने से घबराती है
गर बेटा पैदा हुआ, तो
आतंकवाद का शिकार होगा                             
गर बेटी हुई, तो बलात्कार की शिकार होगी
कश्मीरी औरत माँ बनने से घबराती है
ऐसा साहित्य साधना है, तपस्या है और जो सचमुच ही साधक हैं, उन्हें फल जरूर मिलता है। जैसे बाढ़ का उफान अधिक समय नही रहता, वैसे ही इन परिस्थितियों में जन्मे साहित्यकार भी अल्पकालिक होते हैं। जो कालजयी रचनाओं का निर्माण करते हैं वे सदा अमर रहते हैं। आज प्रसंगवश पदुमलाल जी की वे पंक्तियां स्मृति में आ रही हैं “प्रसिद्धि का राजतिलक हर किसी के माथे नही होता।” यकीनन इसी बहती धारा में एक अंजुरी अपने सिहरते खौफ़ को फ़ातिमा हसन की कलम कि सियाही भी घोल रही है: 
कलम, लफ़्ज़ों का खौफ़ ओढ़े हुए
सो गयी है, सोचती हूँ                                                     
पहले इसे जगाऊँ 
या चादर हटा दूँ?  
और देखिये इस बानगी में हरकीरत ‘हीर’ के हृदय का उफान क्या कह रहा है: 
दर्द हैरान था 
ये किसने आह भरी है
जो मेरी क़ब्र पर से आज 
फिर रेत उड़ी है … 
इंटरनेट के माध्यम से हर दिन किसी न किसी ब्लॉग पर या फेसबुक पर बेपनाह साहित्य पढ़ने के लिए हमारा इंतजार कर रहा होता है। अनेक ही विषय, अनेक ही विषयों पर विश्लेषण, उस पर वह अपना मतदान देने वाले साहित्यकार, आलोचक व पाठक सभी प्रस्तुत होते हैं, अपनी बात रखने के लिए। आज आँखों के सामने से एक उन्वान गुज़रा –
‘बेटियां कुछ लेने नहीं आती”
पढ़कर लगा यह कविता नहीं, एक सच है जो हर घर आंगन में पनपता है। आज नारी अपने आस-पास की गुस्ताखियाँ देखते हुए बर्दाश्त करने पर मजबूर हो जाती है, शायद पुरुष सत्ता नारी को अबला मानकर उसपर हावी हो रही है। नारी  अपने सक्षम होने के प्रमाण कई स्थानों पर अपनी कार्य क्षमता के दौरान देती आ रही है, फिर भी कभी कहीं, कुछ अनुचित परिस्थितियों में वह अपने पक्ष में अन्याय का शिकार हो जाती है, यही सबसे बड़ी विडम्बना है, जहाँ वह कमज़ोर पड़ जाती है। ऐसे ही एक अनुचित बात को आगे रखते हुए लेखिका कुसुम अंसल अपने कविता ‘वृन्दावन’ में उसी वारदात को शब्दों में ज़ाहिर करते हुए लिखती हैं: 
उसने मुझे देखा 
स्पर्श किया कुछ इस तरह                                     
जैसे कसाई अपने बकरे का नाप तौल लेता हो 
और फिर, उसने मुस्कराकर देखा
मैं सारी रात उसकी मुस्कान के 
जलते पर्वत के पिघले धातु में उबलती,
फिसलती किसी गहरी खाई में
जैसे उंडेली सी गई..                                                                                                                      
 यह कवि मन की भावाभिव्यक्ति है जो काव्य के परों पर परवाज़ करते हुए अपना आकार पाती है और हर उस घर के आँगन में आकर ठहरती है जहाँ हर बेटी अपने बचपन की यादों में खुद को झूला झुलाती है, उस घर की दहलीज पर कुमकुम हल्दी का मोगू लगाती है, राखी के दिन भाई की आरती उतारती है, उसकी बालाएं लेती है और साथ ही अपनी सुरक्षा का वादा भी लेती है। और तो और इस घर (मैके) की दहलीज पार करके उस घर (ससुराल)जाती है तो कवि का आकुल व्याकुल मन भी भावुकता से भरपूर शब्दों में कह उठता है
‘घर भर की नम आंखों में
वो प्यार का सागर भरती है”
ईंट पत्थरों को किसी ने रोते हुए नहीं देखा है, पर उन मकानों में रहने वाले मकीं इंसान होते हैं, जिनके सीने में दिल धड़कते हैं। बेटी की विदाई पर उनकी आँखें नम हो जाती हैं। बेटी भी इस दहलीज़ के उस पार जाते-जाते आँखों में सपने सजा जाती है। बाबुल के घर का वैभव छोड़ उस अपने निज घर की ओर पदार्पण करती है, वहीं अपने सपनों का एक नया संसार बसाती है। एक जनम में कितने जन्म लेती है औरत जो बेटी बनकर पैदा हुई, माँ बनकर अपना संसार रचा, और अपने सभ्य संस्कारों को साथ लिए सभी इतर रिश्तों को एक डोर में समेटकर बांधती है। 
कुछ इस तरह जैसे अमृता प्रीतम जी की जुबानी यह बानगी कह उठी है:  
चरखा चलाती मां
धागा बनाती मां
बुनती है सपनों के खेस री
समझ ना पाऊं मैं
किसको बताऊं मैं
मैया छुड़ाती क्यों देस री
 बेटे को देती है महल अटरिया
 बेटी को देती परदेस री…
 यह एक बेटी नहीं, एक नारी के ममत्व की महत्ता है जो अपने आँचल में एक सद्भावना संजोए रहती है। कभी माँ बनकर, कभी बहिन बनकर, कभी पत्नि तो कभी, भाभी, नानी, दादी बन कर। एक वसीह संसार की जन्मदात्री है वह, यही है उसकी पहचान:
ये है पहचान एक औरत की
 मां, बहन, बीवी, बेटी या देवी…स्वयं 
 
अब परिचित होते है, भारती परिमल की भावनाओं से जो खुद एक समूर्ण नारी की परिचायक है। अपने-अपने जीवन के अनुभवों की भावाभिव्यक्ति में देखिये एक बेटी के अहसासात किस तरह पेश कर रही हैं:  
एक बेटी की उम्मीद…बस मात्र 
सवाल बनकर रह जाती है, जब इस समाज की पुरानी रीतियाँ घर को, परिवार को परिपूर्ण तब मानती है जब घर को एक वारिस मिलता है। भ्रूण हत्या तो जैसे एक फ़ितरत बन गई है, ये बेटियाँ जानती हैं, माँ जानती है, क्योंकि वह भी किसी के घर आंगन की बेटी रही है। हक़ीक़त तो यह है कि सृष्टि के निर्माण में एक बेटी, एक बहन, एक माँ, एक नारी का योगदान है जो अपनी कोख में नौ माह बच्चे का पोषण करते हुए उसे जन्म देती है। यहाँ एक बेटी की ललकार है, एक सवाल उसकी आँखों में जवाब पाने की ललक लिए हुए पूछ रहा है…..
पूरे नौ माह का सफ़र तय कर
तेरी गोद की मंजिल पाई है
सोचा था पाकर मुझे,
होठों पर तेरे मुस्कान खिलेगी,
पर देख मुझे आँख तेरी भर आई है…
वही बेटी अब माँ को आश्वासन दिला रही है, कि अब माँ तू अकेली नहीं, हम दो है, मैं तेरा ही प्रतिरूप हूँ। न देर हुई है, न  अँधेर हुआ है, अब भी समय है, एक और एक का मिलन सम्पूर्ण बनेगा, एक ऊर्जा का स्त्रोत होगा, एक शक्ति का उत्पादन होगा, जहाँ पुरुष सत्ता को वह अपना लोहा मनवाकर ही रहेगी। सुनिए भारती जी की ज़बानी —  
कल शक्ति बनूँगी मैं तेरी,
एक दूजे में समाहित होकर
एक बन जाएँगे हम
तू जो साथ दे, तो
एक नया जहाँ बनाएँगे हम…
नारी की इस ललकार में कोई सुर शामिल नहीं है, उस परिवार में जहाँ पुरुष की महत्ता की जडें गहरी हैं। उस जन्मदात्री नारी के अस्तित्व को बच्चों को जन्म देने के सिवा और कोई महत्वता देने की गरज ही नहीं रहती। दस्तावेजी लेखिका संतोष श्रीवास्तव की एक कविता “ये कैसी चुप है?” का अंश यहाँ जोड़ रही हूँ जो अपने मौन में बहुत कुछ कह जाती है-
ये कैसी चुप है?
जिसमें कोठों में, बिकते जिस्मों का
सरेआम लुटती अस्मत का
मजबूर शोर है, और चीखती सर पटकती
हवाएँ बेआवाज़ गुज़र जाती हैं।
परवरदिगार..
इस चुप में, बस एक बार जीकर दिखा
मैं माफ कर दूँगी
मुझे जन्म देने का गुनाह तेरा…
नारी की सम्पूर्णता भी अपने घर संसार, परीवार, परिवेश व समाज में रहते हुए अपना उत्तरदायित्व निभाने में है। एक घर की बेटी, दूसरे घर के आँगन में जब रोप दी जाती है तब उसका दायित्व और भी गरिमामय बन जाता है। सुविधाओं, असुविधाओं के संघर्ष से गुज़रते हुए ख़ुद को स्थापित करने का संकल्प उसे लेना पड़ता है, रिश्तों को कड़ियों को जोड़े रखने में पहल भी उसे करनी पड़ती है। ऐसे कई सन्दर्भों में उसको अपनी इच्छाओं को, परिवार के सुख शांति के लिए त्यागना पड़ता है। यह तो संकीर्ण सोच है, कि एक छत के तले कई सारे अनबन के अवसर आते है, पर उन परिस्थितियों को सोच विचार व विवेक से सुलझाना पड़ता है। ऐसा तो कतई नहीं होना है कि सोच में ताल-मेल न बैठे तो अलग हो जाओ, मनमुटाव होता है तो साथ मत रहो, किसी बड़े के लिये मन में सेवा भाव न हो, ममत्व की भावना न हो। ऐसे में साथ रहना पीड़ादायक हो जाता है, उस वृद्ध के लिए जिसने अपने जीवन के बेहतर साल बच्चों को समर्पित कर दिये, और इस दौर में उन्हें पनाह देने के लिए वृद्धाश्रम भी बाहें पसारे उनका स्वागत कर रहा हो। यहाँ आकर आज नव पीढ़ी को अपनी सोच बदलनी है, बेटियों को भी अपने आने वाले कल के आईने में अपनी तस्वीर देखनी चहिये। इस आशा भरे लहलहाते सन्देश में एक आशावादी सोच के सकारात्मक धरातल पर फिर से नव निर्माण होगा। जहाँ बेटियाँ अपनी पहचान का परचम फहराएगीं। अपने बलबूते पर, अपनी शिक्षा की शमा साथ लिए अपना रास्ता खुद तय करते हुए आगे बढ़ेंगी। 
इसी भाषा-भाव के संगम में एक अँजुरी सिंध की अत्तिया दाऊद की, जो हृदय विदारक चीख के रूप में अपनी बेटी को एक पैगाम देती है कि उसे अगर प्यार करने के एवज़, अपनी मनचाही ज़िन्दगी जीने के एवज़ मौत के घाट भी उतारा जाय, या ‘कारी’ कहकर उसका नामोनिशान मिटाया जाय तो भी वह जीवन के बदले मौत को स्वीकार कर ले। ‘‘अपनी बेटी के नाम’’ ऐसी ही एक कविता है जो शताब्दियों से नारी के साथ हुए असीम अन्याय के चलते लावा की तरह फूट पड़ी है : 
अगर तुम्हें ‘कारी’ कहकर मार दें 
मर जाना, प्यार जरूर करना! 
शराफ़त के शोकेस में 
नक़ाब ओढ़कर मत बैठना 
प्यार जरूर करना! (पृ. 33) 
इतना ज़रूर है कि नारी निर्बल या निराधार नहीं। अपनी पूर्ण पहचान के साथ सबल हो गई है और उसी पहचान का वह परिचय देते हुए वह तेजस्विनी बनकर अपने कदम आगे बढ़ा रही है। आशा और विश्वास के दिन अब झिलमिला रहे हैं। इसी उजाले में नारी अपने अस्तित्व की मर्यादा कायम-दायम रखते हुए एक नई उम्मीद की रौशन किरण बनकर छा रही है।   
काव्यधारा-माँ ने कहा था 
1. माँ ने कहा था
माँ ने कहा था.
मैं गाड़ी के नीचे आते आते
बच गई थी!
तब मैं छोटी थी…. 
और 
माँ ने ये भी कहा था
आने वाले कल में 
ऐसे कई हादसों से 
मैं खुद को बचा लूँगी 
जब मैं बड़ी हो जाऊँगी…..
पर 
कहाँ बचा पाई मैं खुद को 
उस हादसे से?
दानवता के उस षड्यंत्र से?
जिसने छल से
मेरे तन को, मेरे मन को
समझकर एक खिलौना 
खेलकर, तोड़-मरोड़ उसे  
फेंक दिया वहाँ, 
जहाँ कोई रद्दी भी नहीं फेंकता!
उफ़!
बीमार मानसिकता का शिकार
वह खुद भी, 
ज़िन्दा रहने का सबब ढूँढता है!
सच तो यह है
वह मर चुका होता है…
जिसका ज़मीर ज़िन्दा नहीं होता!
याद आया 
माँ ने ये भी कहा था 
वह मर चुका होता है…
जिसका ज़मीर ज़िन्दा नहीं!
देवी नागरानी
जन्म: 1941 कराची, सिंध (तब भारत) 12 ग़ज़ल काव्यसंग्रह, 10 कहानी संग्रह, 2 भजनसंग्रह, 14 सिंधी से हिंदी अनुदित कहानीसंग्रह प्रकाशित। सिंधी, हिन्दी, तथा अंग्रेज़ी में समान अधिकार लेखन, हिन्दीसिंधी में परस्पर अनुवाद। श्री मोदी के काव्य संग्रह, चौथी कूटसाहित्य अकादमी प्रकाशन, अत्तिया दाऊद, व् रूमी का सिंधी अनुवाद. NJ, NY, OSLO, तमिलनाडू, कर्नाटक, –धारवाड़रायपुर, जोधपुर, केरल अन्य संस्थाओं से सम्मानित। डॉ. अमृता प्रीतम अवार्ड, एवं मीर अली मीर पुरूस्कार. 2007-राष्ट्रीय सिंधी विकास परिषद से पुरुसकृत। 14 सितम्बर, 2019, महाराष्ट्र राज्य सिन्धी साहित्य अकादमी सेमाँ कहिंजो आहियाँसंग्रह के लिए पुरुस्कृत. अप्रैल, 2021 कोगुफ़्तगू संस्थाकी ओर से  साहिर लुधियानवी जन्म शताब्दी समारोहके अवसर परसाहिर लुधियानवी सम्मान’. सिन्धी अनुदित कथाओं का हिंदी अनुवाद अब Voice & Text में कथासागर के इस लिंक पर सुनिए.                                                                        
dnangrani@gmail.com                                                   
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest

Latest