Sunday, June 23, 2024
होमलघुकथामहेश कुमार केशरी की लघुकथा - बुरा वक्त

महेश कुमार केशरी की लघुकथा – बुरा वक्त

अभी पैरों के प्लास्टर कटे दो दिन ही हुए थे l रवि धूप में बैठकर अखबार के पन्ने पलट रहा था l इधर सड़क दुर्घटना में दोनों पैर टूट गये थे l
तभी जया  की आवाज रवि के  कानों में गूँजी – ” रवि ,  तुम   कमलेश  भैया के कामों में हाथ क्यों नहीं बँटाते ?  जया  कपड़ों को तह करके अलमारी में रखते हुए बोली l वीणा  हमारी पड़ौसी है l योगेश आजकल ससुराल में ही रह रहा है l वीणा कह रही थी l जब से माँ- बाबूजी से योगेश लड़कर आया है l ससुराल वाले लोग उसे भाव ही नहीं देते l मैं नहीं चाहती कि यहाँ भी लोग तुम्हारे साथ ऐसा ही व्यवहार करें l अब तो तुम्हारे  पैरों का प्लास्टर भी कट गया है  l और तुम्हें यहाँ रहते  दो महीने से ज्यादा हो गये हैं l कल को कोई योगेश की तरह ही  तुम्हारे बारे में ऐसी – वैसी बात  कह दे ,  तो मुझे तो बहुत ही बुरा लगेगा l   “
रवि को ये बात काँच के किरचें की तरह  चुभीं l उसे आश्चर्य हो रहा था कि उसकी पत्नी जो उसकी सबसे करीबी थी l आज उसे भी लग रहा है कि उसका पति  ससुराल में बोझ बन गया है ! और बैठकर खा रहा है l  वो ,रवि जो दिनरात हाड़तोड़ काम करके हमेशा अपने परिवार और बाल- बच्चों के लिये जीने  वाला आदमी थाl ये औरत और इसके घरवाले कितने एहसान-फरामोश हैं l ये रवि को साफ – साफ दिख रहा था l
रवि की आँखें आश्चर्य से फटी की फटी रह गईं l कछ देर रवि , जया को  अपलक घूरता  रह गया। l सहसा उसे विश्वास ही नहीं हो रहा था l कि इस तरह से स्थितियाँ बदल जायेंगीं l अभी दो साल पहले तक जब चारों तरफ कोरोना अपनी प्रचंड वेग से आदिम सभ्यता को मिटाने के लिये आतुर दिख रहा था l ऐसे गाढ़े समय में उसने अपने ससुर और साले की मदद की थी l रवि ने  दो – लाख रूपये  कमलेश  को जया के एक बार कहने पर दे दिया था l और कभी लौटाने की बात नहीं की थी l कोरोना में होटल लाइन पूरी तरह से चौपट हो गया था l कमलेश और उसका परिवार रोड पर आने को हो आया था l ऐसे गाढ़े वक्त में उसने उनकी  मदद की थी l
” ठीक कहती  हो तुम जया l आदमी कितने दिनों तक दूसरों पर बोझ बना रह सकता है l  मेरी परिस्थिति जब तक ठीक थी l तुम्हारे सारे खर्चे  और बच्चों के खर्चे मैं उठाता रहा l आज एक छोटे से एक्सीडेंट ने मुझे मेरी औकात दिखा दी कि आदमी कितना स्वार्थी हो सकता है l लेकिन मैं एक बात तुमसे कहना चाहता हूँ कि कमलेश को कह देना कि लाॅकडाउन के समय जो पैसे मैंने लोन पर लेकर तुम लोगों की दिया था l उसका मैं इन दो सालों में बहुत ब्याज भर चुका हूँ l उनको कहना की जो दो लाख रूपये उन्होंने मुझसे लिये थे l उनको बैंक को लौटाना भी होगा l एक एक्सीडेंट ने लोगों के चेहरे से  शराफत के   सारे नकाब उतारकर फेंक दिया हैl कौन कहता है कि दुर्घटनायें बुरी चीज होती हैं l इस दुर्घटना ने मेरी आँखें खोल दीं हैं l “
” मेरे कहने का वो मतलब नहीं था l ” जया ने सफाई देनी चाही l
” मैं खूब समझता हूँ l तुम्हारा मतलब l मेरा  जब चिकेन खाने का मन करता था l  तो तुम लोग बैंगन बनाते थें l दाल में कभी  पानी ज्यादा होती थी l तो कभी नमक ज्यादा l कभी दाल में नमक ही नहीं होती थी l रोटियाँ मोटी- मोटी जली हुई और सूखी होती थीं l चावल मार्केट से सबसे घटिया क्वालिटी का खरीदकर तुम लोग मेरे लिये लाते थे l तुम्हें क्या लगता है l मैनें इन चीजों को नोटिस नहीं किया था  l मेरी नजर इन दो महीनों में  तुम लोगों की सारी गतिविधियों पर बनी हुई थी l   “
शाम धीरे- धीरे आँगन में उतर आई थी l रवि धीरे से कुर्सी पर से उठा l और अपने जेब से ए . टी. एम. कार्ड़ निकालकर जया की ओर बढ़ाते हुए कहा -”  मेरे इस ए. टी. एम . कार्ड़ से हर महीने बीस हजार रूपये निकाल लेना l इससे तुम्हारा और  तुम्हारे बच्चों का खर्चा  चल जायेगा l पैसे घटेंगें  तो  मुझे बताना  l हर महीने बढ़ाकर डाल दूँगा l “
” मैं अपने भी कपड़े पैक कर लूँ l मैं भी तुम्हारे साथ चलती हूँ l ”  जया ने  मौके की नजाकत को समझते हुए कहा l
” नहीं अब मुझे तुम्हारी कोई जरूरत नहीं है l  तुम्हारा स्वार्थी चेहरा मैंने देख लिया है l रहने दो l “
प्लास्टर कटे अभी दो दिन ही हुए थें l  रवि के पैरों में तकलीफ अभी भी बनी हुई थी l उसने चलने  की कोशिश की तो उसका संतुलन बिगड़ गया l  और वो गिरने को हुआ  l जया आगे बढ़कर रवि को संँभालने के लिये  आई  l तभी रवि बैसाखियों की मदद से   धीरे – धीरे उठ खड़ा  हुआ l  ओर हाथ के इशारे से जया को रोकते हुए बोला -” अभी – अभी गिरकर सँभला हूँ l और अब जमाने  में  लोग गिरे हुए लोगों को उठाने का हुनर भूलने लगे हैं l  हमारे बीच के  लोगों  से ये हुनर जाने लगा  है l अब और गिरने की ताकत नहीं है  मुझमें l तुम बहुत दूर तक  मेरा साथ नहीं दे सकती l ये दुनिया ऐसी ही है l सबल लोगों का साथ देती है l लाचार लोगों को कोई नहीं पूछता l हमारे रिश्तों में भी यही बात लागू होती है l आज सारे रिश्ते मतलब के हो गये हैं l  ” उसने बैसाखी संँभाली l   और धीरे – धीरे लँगड़ाते हुए  अँधेरे में गली के अंँदर  गायब हो गया l
महेश कुमार केशरी
महेश कुमार केशरी
महेश कुमार केशरी झारखण्ड के निवासी हैं. कहानी, कविता आदि की पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं. अभिदेशक, वागर्थ, पाखी, अंतिम जन , प्राची , हरिगंधा, नेपथ्य आदि पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित. नव साहित्य त्रिवेणी के द्वारा - अंर्तराष्ट्रीय हिंदी दिवस सम्मान -2021 सम्मान प्रदान किया गया है. संपर्क - keshrimahesh322@gmail.com
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest