संपादकीय – शब्दों के जादूगर साहिर लुधियानवी की जन्म शताब्दी

साहिर लुधियानवी जब साहिर फ़िल्मों से जुड़े तो उन्होंने अपनी साहित्यिक कृतियों का इस्तेमाल हिन्दी सिनेमा में भी किया। 1950 से 1970 का काल एक ऐसा काल था जब मजरूह सुल्तानपुरी, राजा मेहदी अली ख़ान, शकील बदायुनी, हसरत जयपुरी, कैफ़ी आज़मी, राजेन्द्र कृष्ण, जांनिसार अख़्तर,...

संपादकीय : भारत में ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलों एवं ओ.टी.टी. पर नये नियम

पिछले दिनों में देखा गया कि ट्विटर और फ़ेसबुक जैसे सोशल साइट विश्व के सबसे ताकतवर इन्सान यानि कि अमरीका के राष्ट्रपति तक को घुटने टेकने पर मजबूर कर सकते हैं। देखना यह होगा कि वे भारत सरकार द्वारा बनाए गये नये नियमों पर...

संपादकीय : ब्रिटेन का शाही परिवार

बहुत बार ऐसा होता है कि मनुष्य बहुत सिद्धान्तवादी हो जाता है मगर स्थिति की ज़मीनी हक़ीकत समझने में थोड़ी चूक कर जाता है। कुछ इसी तरह की स्थिति हैरी और मेघन के साथ भी होती प्रतीत हो रही है। पिछले साल यानि कि मार्च...

संपादकीय : क्या चीन इससे पहले कभी पीछे हटा है…?

भारत के प्रथम प्रधानमन्त्री जवाहर लाल नेहरू ने अक्साई चिन के विवाद को सुलझाने के लिए सितंबर 1958 में चीन के तत्कालीन प्रधानमंत्री चाऊ एन लाई को पत्र लिखकर मैक्महोन रेखा का सम्मान करने के लिए कहा था। चाऊ एन लाई ने 23 जनवरी...

संपादकीय : किसान आंदोलन का चक्का जाम

भारत सरकार ने यह  पेशकश पहले से ही कर दी है कि वे 18 महीनों के लिये इन तीन कानूनों को लागू नहीं करेगी। सरकार ने किसानों को बातचीत के लिये बुलाया है। सरकार ने यह नहीं कहा कि 18 महीने ख़त्म होते ही...

संपादकीय : किसान आन्दोलन… कितने सच, कितने झूठ!

इस पूरे प्रकरण में पंजाब के मुख्यमन्त्री केप्टन अमरिन्दर सिंह ने एक मैच्योर वक्तव्य दिया है। उनका कहना है कि 26 जनवरी को दिल्ली में हिंसा और लाल किले पर निशान साहिब को फहराए जाने की घटना निंदनीय है। अमरिन्दर सिंह ने कहा कि...