Wednesday, June 12, 2024
होमअपनी बातसंपादकीय - फफूंद (Mould) जानलेवा हो सकती है...!

संपादकीय – फफूंद (Mould) जानलेवा हो सकती है…!

दिमाग़ में एक बात चल रही थी कि शायद ब्रिटेन की काउंसिल की ही तरह भारत के सरकारी तंत्र में भी बुरी तरह से फफूंद लग रही है। खाने पीने के सामान पर या घरों में लगी फफूंद कुछ एक इन्सानों को बीमार करती है या उनकी जान ले लेती है। मगर सरकारी तंत्र की फफूंद तो पूरे समाज को बीमार कर देती है और सभी की जान की दुश्मन बन जाती है। हमारा प्रयास होना चाहिये कि हम अपने घर, अपने जीवन और अपने प्रशासन से इस फफूंद को साफ़ करें। तभी एक स्वच्छ और साफ़ समाज का निर्माण हो पाएगा। 

हिन्दी की वरिष्ठ कथाकार ज़किया ज़ुबैरी जी बारनेट के कॉलिन्डेल क्षेत्र में काउंसलर हैं। हाल ही में उनके सामने एक ऐसा मामला आया जिसकी गहराई को मैं बिल्कुल भी समझ नहीं पाया। ज़किया जी ने बताया कि उनके इलाक़े के एक निवासी के घर में फफूंद की समस्या ख़तरनाक स्तर पर पहुंच गयी है। पूरे परिवार के स्वास्थ्य पर इसका असर हो रहा है। 
ज़किया जी पूरी कर्मठता से उस परिवार की सहायता के लिये जुट गयीं। परिवार में एक माँ, दो बेटियां और एक बेटा। फफूंद का सबसे अधिक असर बेटे ख़ाकान पर हो रहा था। ज़किया जी संबद्ध अधिकारियों से निरंतर संपर्क बनाए हुए थीं। मुझे यह इन्हीं दिनों में पता चला कि भारत में जो लालफीताशाही चलती है उसकी शुरूआत अंग्रेज़ों ने ही की होगी। 
एक रात तो हालात इतने ख़राब हो गये कि ज़किया जी को इस पूरे परिवार को अपने घर में रखना पड़ा। जब काउंसिल को पता चला कि काउंसलर ने इस परिवार को रात भर अपने घर रखा तो वहां हड़कंप सा मच गया। अगले ही दिन पूरे परिवार को एक होटल में रखने का प्रबन्ध किया गया। ज़किया जी ने महसूस किया कि उनके बेटे ख़ाकान की तबीयत कुछ अधिक ही ख़राब लग रही थी। उसे साँस लेने में बहुत कठिनाई हो रही थी। 
ख़ाकान को हस्पताल पहुंचाया गया। अगले ही दिन उसे आई.सी.यू. में शिफ़्ट कर दिया गया। और तीन दिन के बाद ही ख़ाकान यह दुनिया छोड़ कर चला गया। ज़ाहिर है कि हर महकमा इस मौत के लिये अपनी ज़िम्मेदारी से पल्ला झाड़ने के तरीके खोज रहा है।
अभी कुछ ही दिन पहले मैन्चेस्टर के निकट रॉशडेल में एक शिशु अवाब इशाक का फफूंद भरे फ़्लैट में रहने के कारण निधन हो गया। वह अभी पूरा दो वर्ष का भी नहीं हो पाया था। उसका जन्मदिन दिसम्बर महीने में था।

कोरोनर जोआन केयर्सली के अनुसार, “अवाब एक लंब समय तक फफूंदी भरे फ़्लैट में रहने के कारण गंभीर साँस की बीमारी से ग्रस्त हो गया और उसकी मृत्यु हो गयी।… बहुत बार रिपोर्ट करने के बावजूद मोल्ड की रोकथाम के लिये कोई इलाज या कार्यवाही नहीं की गयी।” 
जिस घर में अवाब का परिवार रह रहा था रॉशडेल बरोवाइड हाउसिंग की संपत्ति है और उसका प्रबंधन भी उन्हीं के हाथ में है। कोरोनर ने इस बारे में कहा, कि यह फ़्लैट लोगों के रहने की स्थिति के लिये तैयार नहीं था। शायद इसीलिये इसमें अतिरिक्त नमी और वाष्पीकरण हुआ। 
इन दो हादसों के कारण मैं यह सोचने के लिये मजबूर हो रहा हूं कि हम पहली पीढ़ी के प्रवासियों ने भारत/पाकिस्तान में  सीलन, फफूंद, भुकड़ी, फफूंदी को कभी बहुत गंभीरता से नहीं लिया। इसका एक कारण भी है कि भारत/पाकिस्तान में भरपूर गर्मी पड़ती है। फफूंद के लिये सीलन ज़रूरी है और धूप एवं गर्मी फफूंद के दुश्मन हैं। 
मगर ब्रिटेन और युरोप के कुछ देशों में बारिश लगभग पूरे वर्ष भर होती रहती है। इसी कारण सीलन बनी रहती है जो कि फफूंद को जन्म देती है। यहां की नेशनल हेल्थ सर्विस बाक़ायदा आगाह करती है कि यदि आपके घर में सीलन और फफूंदी है तो आपको साँस संबंधी समस्याएं, एलर्जी या अस्थमा होने की प्रबल संभावना है। नमी औ मोल्ड (फफूंद) आपकी प्रतिरोधक शक्ति को भी प्रभावित कर सकती है। 
आयुर्वेद में जिन व्यक्तियों को कफ़ प्रकृति का माना जाता है उन्हें फफूंद की मौजूदगी अन्य लोगों के मुकाबले अधिक प्रभावित करती है। शिशु एवं बच्चों पर फफूंद अधिक असर डालती है। और व्यस्क जिन्हें पहले से त्वचा की समस्या हो जैसे कि एक्ज़िमा, साँस की समस्या, एलर्जी या फिर अस्थमा की शिकायत हो उन पर भी असर अधिक होता है। कमज़ोर प्रतिरोधक शक्ति वाले लोग या फिर जिन की कीमोथिरेपी चल रही हो उन्हें सीलन या फफूंदी भरे घर से दूर रहना चाहिये। 
फफूंदी कुछ ऐसे पदार्थ पैदा करती है जिनसे एलर्जी उत्पन्न हो जाती है। कभी-कभी जलन पैदा करने वाले और विषैले पदार्थ भी उत्पन्न हो जाते हैं। ऐसे माहौल में केवल साँस लेने या मोल्ड (फफूंद) के बीजाणओं को छू देने मात्र से एलर्जी की प्रक्रिया शुरू हो सकती है – जैसे कि छींकना, नाक बहना, आँखें लाल होना और त्वचा पर दाने उभर आना। फफूंद से अस्थमा के दौरे तो शुरू हो ही जाते हैं।
अधिक सीलन के कारण मोल्ड और  नमी पैदा हो जाते हैं। इमारतों में आमतौर पर लीक होने वाले पाइपों, बेसमेंट या भूतल में बढ़ती सीलन अथवा छत या खिड़की के फ़्रेम के आसपास की क्षति के कारण बारिश के रिसाव के कारण भी फफूंद पैदा हो सकती है। 
किसी नये बनाये गये घर के बनाते समय यदि उसमें इस्तेमाल किया गया पानी अभी भी सूख रहा हो – उदाहरण के लिये, दीवारों पर प्लास्टर में; तो भी फफूंद को निमंत्रण दे सकता है। घर के भीतर अतिरिक्त नमी भी फफूंद के प्रजनन को बढ़ावा देती है। 
यदि घर में सीलन और नमी की उपस्थिति महसूस की जा रही हो तो हमें सबसे पहले इसके कारणों का पता लगाना अति आवश्यक होगा। जब नमी के कारणों का पता चल जाएगा तभी आप इसके इलाज के बारे में उठाने वाल कदम तय कर पाएंगे। यदि फफूंदी बड़े स्तर पर फैल रही है तो आपको पेशेवर की सहायता लेनी होगी तभी इसका सही इलाज हो पाएगा। यदि फफूंद का शुरूआती दौर है तो आप स्वयं भी इसका इलाज कर सकते हैं। 
यह भी सच है कि कोई भी इन्सान सीलन और नमी से भरे घर में नहीं रहना चाहेगा। नमी दीवारों और फ़र्नीचर पर फफूंद पैदा कर सकती है और खिड़की के लकड़ी के फ़्रेम के सड़ने का कारण बन सकती है। यह स्वास्थय के लिये भी ख़तरनाक है। 
वाष्पीकरण तब होता है जब नम हवा दीवार, खिड़की, शीशे आदि जैसी ठंडी सतह के संपर्क में आती है। हवा नमी को धारण नहीं कर पाती और पानी की छोटी-छोटी बूंदें दिखाई देने लगती हैं। यह उन जगहों पर भी होता है जहां हवा स्थिर होती है – जैसे कमरे के कोने, फ़र्नीचर के पीछे या फिर अल्मारी के भीतर। 
ख़तरनाक फफूंद से घर और परिवार के सदस्यों को बचाने के कुछ घरेलू नुस्खे भी हैं। जैसे खाना बनाते समय पतीली या कड़ाही को ढक कर रखना। कपड़े घर के बाहर सुखाना (याद रहे कि कपड़े कभी भी रेडियेटर पर न सुखाए जाएं।)
एग्ज़हॉस्ट पंखे (जिन्हें एक्स्ट्रैक्टर पंखे भी कहा जाता है) नम हवा और भाप से छुटकारा दिलवाने का एक प्रभावी तरीका हैं ताकी वाष्पीकरण कम हो। कुछ बहुत ही आधुनिक घरों में ऐसे एक्स्ट्रैक्टर पंखे लगे होते हैं जो लगातार चलते रहे हैं। ये पंखे गुसलखाने की दीवार या छत में लगाए जाते हैं। ये बहुत कम बिजली खर्च करते हैं। 
नम हवा को अपने घर के बाक़ी हिस्सों में जाने से रोकें। खाना बनाते या नहाते समय किचन और बाथरूम का दरवाज़ा बंद रखें और खिड़की खोल दें ताकि भाप बाहर चली जाए। यदि घर के किसी हिस्से में नम हवा घुस भी गयी है तो वहां मोल्ड न बने इसके लिये ताज़ी हवा वहां आने दें। एक बात का और ख़्याल रखना होगा कि फ़र्नीचर और दीवार के बीच कुछ दूरी बना कर रखनी होगी। वार्डरोब और अल्मारी को कभी-कभी अच्छी हवा भी दें। 
यदि आपके घर की दीवारों और छत पर फफूंदी अपना घर बना चुकी हैं तो आपको इसे अच्छी तरह से साफ़ करना ज़रूरी है। ब्लीच युक्त स्प्रे के साथ मोल्ड को साफ़ करने के लिये दो चरण की प्रभावी विधि इस्तेमाल की जा सकती है। यह स्प्रे उस दाग़ को हटाने में मदद करेगा जो लगातार मोल्ड पीछे छोड़ सकता है। रात भर सूखने के लिये छोड़ दें और फिर प्रभावित क्षेत्र को एंटी-फ़ंगल वॉश से स्प्रे करें और सूखने दें। स्प्रे पर निर्माताओं द्वारा दिये गये निर्देशों का पालन अवश्य करें। यदि आवश्यक्ता हो ते फ़ेस मास्क पहल कर स्प्रे करें। 
अधिकांश प्रमुख हार्डवेयर स्टोर से मोल्ड-प्रतिरोधी पेंट मिल जाता है। दीवारों और छतों के प्रभावित क्षेत्रों का इलाज आप इस पेंट से भी कर सकते हैं। 
हो सकता है कि फ़िलहाल आपको फफूंदी या मोल्ड के बारे में पढ़ कर ऐसा लगे कि ये तो अमीर देशों के नख़रे हैं। हम हिन्दुस्तानी हैं – लक्कड़ हज़म पत्थर हज़म। मगर याद रहे यह एक ख़तरनाक बला है। इसका शरीर पर ख़ासा ख़तरनाक असर होता है। यह मशरूम जैसा फ़ंगस नहीं है जिसे हम अपने भोजन का हिस्सा बना लेते हैं। यह फ़ंगस जब अपनी आई पर आ जाए, तो हमें अपना भोजन बना लेता है।
इस संपादकीय को लिखते समय टीवी पर भारत के चुनावी परिदृश्य पर भी निगाह रखे हुए था। श्रद्धा और आफ़ताब का मामला भी सामने था। दिमाग़ में एक बात चल रही थी कि शायद ब्रिटेन की काउंसिल की ही तरह भारत के सरकारी तंत्र में भी बुरी तरह से फफूंद लग रही है। खाने पीने के सामान पर या घरों में लगी फफूंद कुछ एक इन्सानों को बीमार करती है या उनकी जान ले लेती है। मगर सरकारी तंत्र की फफूंद तो पूरे समाज को बीमार कर देती है और सभी की जान की दुश्मन बन जाती है। हमारा प्रयास होना चाहिये कि हम अपने घर, अपने जीवन और अपने प्रशासन से इस फफूंद को साफ़ करें। तभी एक स्वच्छ और साफ़ समाज का निर्माण हो पाएगा। 
तेजेन्द्र शर्मा
तेजेन्द्र शर्मा
लेखक वरिष्ठ साहित्यकार, कथा यूके के महासचिव और पुरवाई के संपादक हैं. लंदन में रहते हैं.
RELATED ARTICLES

37 टिप्पणी

  1. Your Editorial of this day brings to light a very significant issue relating to the health n worthiness of human life/ community/country and how it can be adversely affected or even destroyed by mould.
    A very informative and valuable article.
    Regards
    Deepak Sharma

  2. आपने अत्यंत महत्वपूर्ण स्वास्थ्य और पर्यावरण संबंधित मुद्दा एक साहित्यिक पत्रिका के संपादकीय के माध्यम से उठाकर एक तरह से विश्व को चेताने और जगाने का प्रयास किया है। अंतिम पंक्तियों में आपने फफूंद को सरकारी तंत्र से जोड़ दिया जो गज़ब है। वास्तव में लालफीताशाही की फफूंद पूरे समाज को सड़ांध से भर देने में सक्षम है।

    हम तो सोच भी नहीं सकते थे कि फफूंद जानलेवा भी हो सकती है।

  3. शायद नहीं सर, बल्कि निश्चित रूप से ब्रिटेन की काउंसिल की तरह भारत के सरकारी तंत्र को बुरी तरह से फफूंद लग चुकी है। आपके इस तर्क से सोरहो आने सहमत हुआ जा सकता है कि “खाने-पीने के सामान पर या घरों में लगी फफूंद कुछेक इन्सानों को बीमार करती है या उनकी जान ले लेती है, जबकि सरकारी तंत्र की फफूंद पूरे समाज को बीमार कर देती है और सभी की जान की दुश्मन बन जाती है।” वास्तव में हम सबका यह “प्रयास होना चाहिये कि हम अपने घर, अपने जीवन और अपने प्रशासन से इस फफूंद को साफ़ करें, तभी एक स्वच्छ और साफ़ समाज का निर्माण हो पाएगा।”

  4. बढिया लेख।सीधे सरकारी तंत्र की पोल खोलता हुआ। बेहद संवेदनशील तरीके से ही बताता हुआ कि वह चाहे भ्रष्टाचार हो फफूंद, जानलेवा हो सकती है।

  5. उपयोगी संपादकीय, बधाई,
    कोरोना महामारी के बाद कुछ दिनों तक भारत में ब्लैक फंगस का आतंक बना रहा। कई लोगों को आंखों से हाथ धोना पड़ा ,कई के करोना से क्षत-विक्षत फेफड़े काली फफूंद के कारण नष्ट हो गए और जीवन से हाथ धोना पड़ा ।सांस में जाकर त्वचा पर फैल कर फफूंद स्वास्थ्य को हानि पहुंचाती है परंतु साथ ही पौष्टिक भोजन भी तो है गुच्छी और दूसरे मशरूम हाई प्रोटीन वाले भोज्य पदार्थ भी हैं ।हां ,राजनीति और प्रशासन में लगी फफूंद अवश्य ही समाज को नष्ट करने वाली है।
    सूर्य की कृपा पाने वाले देश भारत में फफूंद का प्रकोप उतना भयंकर नहीं होता जितना नाम और उमस भरे क्षेत्रों में होता है। राजनैतिक क्षेत्र में भी ‘सूर्य की किरणें’ आवश्यक है कि उसमें फफूंद ना लगे!

  6. मस्तिष्क की फफूंदी हटाता हुआ संपादकीय, काश ब्रिटेन, भारत ही नहीं रूस-यूक्रेन सहित सम्पूर्ण विश्व के प्रशासन और जनता की फफूंद हट जाए तो विश्व कल्याण हो जाये।
    हम धूप और लू की जगह में रहने वालों के लिए ख़तरा कम है, पर सावधानी रखनी चाहिए, ये आपने याद दिलाया। संपादकीय के क्षेत्र में नये गवाक्ष सा संपादिका प्रशंसनीय है।

  7. साधारण से दिखने वाले विषय पर बेहद विलक्षण और प्रामाणिक संपादकीय आलेख के लिए तेजेन्द्र जी को साधुवाद

  8. लाजवाब सर,साधरण फफूंद के रूद्र रूप से सरकारी तंत्र पर जोरदार प्रहार । प्रणाम है आपको।

  9. सम्पादकीय का शीर्षक पढ़कर याद आया “जहाँ न पहुँचे रवि ,वहाँ पहुँचे कवि ।आपकी दृष्टि नए विषय की ओर पहुँच गयी ,विकराल समस्या है ।
    गम्भीर विश्लेषण है ।
    साधुवाद
    Dr Prabha mishra

  10. आपने सही लिखा है कि खाने पीने के सामान पर या घरों में लगी फफूंद कुछ एक इन्सानों को बीमार करती है या उनकी जान ले लेती है। मगर सरकारी तंत्र की फफूंद तो पूरे समाज को बीमार कर देती है और सभी की जान की दुश्मन बन जाती है। हमारा प्रयास होना चाहिये कि हम अपने घर, अपने जीवन और अपने प्रशासन से इस फफूंद को साफ़ करें। तभी एक स्वच्छ और साफ़ समाज का निर्माण हो पाएगा।
    किन्तु क्या ऐसा हो पायेगा? घरों को तो इंसान साफ भी कर ले किन्तु समाज और प्रशासन…!!
    सदा की तरह समाज को जागरूक करता, चेतावनी देता बेहतरीन संपादकीय।

  11. बहुत महत्वपूर्ण विषय है तेजेन्द्र जी ! मनुष्य के शरीर के ऊपर असर से लेकर मन-विचारों, यहाँ तक कि राजनीतिक तंत्र की फफूंदी के साथ जो दृश्य उपस्थित हुआ है, वह भयभीत करता है।बात देखने, सुनने में ज़रा सी लेकिन परिणाम कितने भयंकर !
    यह फफूंदी शरीर, विचार व समाज को दुर्गंधित करने में कभी भी नहीं चूकती और एक गला हुआ सा एहसास देती है ।
    फफूंदी का चित्र देखकर ही शरीर में कंपकपाहट होती है यदि मन के तंत्रों तक पहुँच जाए तो समाज को कैसे छोड़ सकती है?
    इस प्रकार के संपादन के लिए आपको साधुवाद।

  12. फफूंद के बारे में भारत में कोई जागरूकता नहीं है। भारत में लोग अपनी मूलभूत आवश्यकता ही पूरी नहीं कर पाते फिर सीलन के बारे में जान कर क्या कर लेंगे। अस्थमा के मरीजों को डाॅक्टर विशेष रूप से यह सलाह देता है कि आप फफूंद और सीलन से दूर रहें पर अधिकतर भारतीय मरीजों की मजबूरी होती है सीलन और फफूंद से पटे घरों में रहना। फफूंद से लड़ाई के साथ साथ गरीबी से भी लडना होगा।

    • भारती, पुरवाई के संपादकीय के माध्यम से हम ऐसे ही विषयों के बारे में जागरूकता पैदा करने का प्रयास करते हैं।

  13. अंग्रेजों की व्यवस्था से ही उपजा भारतीय सरकारी तंत्र आरंभ से ही फफूंद के प्रकोप से ग्रस्त रहा है। यही कारण रहा कि भ्रष्टाचार कुव्यवस्था इसकी जड़ों में समाया हुआ है। इसके चलते आजादी के तुरंत बाद से ही जीप घोटाला मूंदड़ा कांड जैसे घोटाले सामने आने शुरू हो गए थे। यह सिलसिला अभी भी रुका नहीं है। स्वास्थ्य शिक्षा सुरक्षा आदि सारी व्यवस्थाएं फफूंद के प्रकोप से आज भी त्रस्त हैं. भारत में समस्या इसलिए भी ज्यादा भयावह है कि यहां साहित्य जगत भी फफूंद से बुरी तरह ग्रस्त है। वह साहित्य जो समाज देश को सभ्य सुसंस्कृत बनाने, दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. स्वाधीनता संग्राम के आंदोलन में नि:संदेह साहित्य जगत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। लेकिन बाद में इसमें मठाधीशी का फफूंद ऐसा लगा कि पूरा साहित्य जगत ही खेमों बँटा अपने ही पैरों पर कुलड़ियां चलाता चला आ रहा है. हर मठ दूसरे को नकारता खुद को ही श्रेष्ठ बताने में अनवरत लगा हुआ है। इससे हिंदी साहित्य जगत का ही नहीं देश और समाज की जो क्षति हो रही है वह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है. सत्ता प्रतिष्ठान पर अंकुश लगाए रखने, उसे दिशाहीन होने से बचाए रखने की जो शक्ति मीडिया के साथ-साथ साहित्य जगत के पास होती है वह स्वयं ही बिखरी हुई है. सत्ता प्रतिष्ठान निरंकुश हो चुका है, लोकतंत्र भीड़ तंत्र में परिवर्तित होता चला जा रहा है. फफूंद की व्यापकता देखिए है कि समय-समय पर शासन प्रशासन में पारदर्शिता की बात करने वाली न्यायपालिका भी, घोर अपारदर्शी जजों की नियुक्ति की, कोलोजियम व्यवस्था को किसी भी सूरत में त्याग कर एक पारदर्शी व्यवस्था अपनाने को तैयार नहीं है. ऐसे में देश हैरान-परेशान है कि किससे से अपेक्षा करे कि वह एक फफूंद मुक्त सुदृढ़ शासन-प्रशासन स्थापित कर बेहतर स्वास्थ्य शिक्षा सुरक्षा आदि देशवासियों के लिए सुनिश्चित करेगा। आप ऐसे मुद्दों को उठाते रहते हैं इसके लिए यही कहा जा सकता है कि हमें इस आशा के साथ प्रयास करते ही रहना चाहिए कि एक दिन तो सुबह होगी ही, सूरज निकलेगा ही और तब तेज़ चमकीली धूप हर जगह व्याप्त सीलन को खत्म कर देगी, फफूंद कहीं नहीं दिखेगी, लोग असमय कालकवलित नहीं होंगे.

  14. आजकल फफूंद तो प्रायः समाज के हर वर्ग में लग गई है।
    इसे कैसे दूर किया जाए विकराल समस्या है।
    संभवत: कोई वैज्ञानिक इसे हटाने का उपकरण ढूंढ लेगा।
    इसी आशा के साथ
    डॉ •क्षमा पाण्डेय भोपाल मध्यप्रदेश

  15. आजकल फफूंद तो समाज के हर वर्ग में लग
    गई है इसे हटाने का उपकरण तो वैज्ञानिक ही खो
    ज निकालेंगे।
    डॉ •क्षमा पाण्डेय भोपाल मध्यप्रदेश

  16. सार्थक सम्पादकीय लिखी आपने आदरणीय शर्मा जी, फफूँद इतनी ख़तरनाक हो सकती है ये हम सोच भी नहीं सकते। एक बात तो आपने सक्छ कही कि भारत में प्रशासन की फफूँद बहुत नुकसान कर रही है और ये बढ़ती ही जा रही है इसका कोई इलाज निकट भविष्य में तो दिखाई नहीं देता।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest