Saturday, May 18, 2024
होमग़ज़ल एवं गीतसूर्य प्रकाश मिश्र के दो गीत

सूर्य प्रकाश मिश्र के दो गीत

1 – पन्ने
मिल गये थोड़े पन्ने लिखे आपके
उंगलियों ने छुई जब इबारत कोई
यूँ लगा जैसे धड़कन ठहर सी गई
मिल गये आप ख्वाबों में खोये हुए
जुड़ गई खो चुकी कोई नाजुक कड़ी
हर वही बात फिर याद आने लगी
जिसको बैठे थे दिल से भुलाये हुए
याद आया अमरबेल का झूलना
बाग में खुरदुरे काँस का फूलना
वो महक धान के पक गये खेत की
उड़ते बगुलों का उड़ने की रौ भूलना
ऐसे ही अनगिनत खूबसूरत से पल
मिल गये अक्षरों में समाये हुए
कुछ शिकायत मेरे दूर जाने की भी
जिन्दगी बिन जिये छोड़ जाने की भी
ना समझने की जिद आँसुओं की कसक
दिल से वादा किया तोड़ जाने की भी
फैलती रोशनाई में घुलने लगे
चन्द लमहे बहुत याद आये हुए
2 – मोती झरते
मोती झरते आसमान से
भीग रहा धरती का तन मन
सोई कितने इत्मीनान से
खेत धान का भीग रहा है
सूरज जाने कहाँ गया है
धुली मेड़ भीगी पगडंडी
सब कुछ लगता नया-नया है
भीग रहे आँखों के सपने
मचल रहे दुधमुंहे धान से
पुरवाई लेती अँगड़ाई
लिपट गई तन से परछाई
छलक उठे बदली के नैना
समझ गई है पीर पराई
गुजर रहा व्याकुल सा कोई
मौसम के इस इम्तिहान से
जोड़े के संग सोन चिरइया
गौरे से लिपटी गौरइया
मगर किसी की दो आँखों को
जीवन लगता भूल भूलइया
साँसें मिलने को व्याकुल हैं
परदेशी हो गये प्राण से
सूर्य प्रकाश मिश्र
सूर्य प्रकाश मिश्र
कृतियाँ -छुई मुई सी सुबह, वफा के फूल मुस्कुराते हैं, भोर का तारा न जाने कब उगेगा, दरबान ऊँघते खड़े रहे, सुरीले रंग, सूख रहा पौधा सूराज का, भजकटया के फूल, जाना है समय के पार (आठ गीत संग्रह ), कौवा पुराण (कुण्डली संग्रह ). साक्षात्कार ,हरिगन्धा ,हिमप्रस्थ ,मधुमती ,अक्षरा ,हिन्दुस्तानी जबान, देवपुत्र साहित्य अमृत ,व्यंग्य यात्रा ,वीणा ,राष्ट्र धर्म सोच विचार ,विज्ञान गंगा आदि शतकाधिक पत्रिकाओं में गीत ,कविता ,कहानी व्यंग्य प्रकाशित. अनेक सम्मानों से सम्मानित. संप्रति -भारतीय स्टेट बैंक में प्रबन्धक पद से सेवा निवृत्त. संपर्क - surya.misra1958@gmail.com
RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest

Latest