Tuesday, July 16, 2024
होमग़ज़ल एवं गीतअर्चना उर्वशी का गीत - मन की घटाएं

अर्चना उर्वशी का गीत – मन की घटाएं

एक घटा नभ की पलकन से
एक घटा बरसे नयनन से।
यामिनी बीत रही बिन बोले,
कौन अधर की सांकल खोले।
हृदय देहरी पर पग धर कर,
दर्द पुराना आँखें खोले।
पीर झर रही है बूंदन से।
एक घटा बरसे नयनन से।
नैन घाटियों के कजरारे,
पर्वत करने लगे इशारे।
लट बिखराती श्वेत बदलियाँ
बरस पड़े बादल मतवारे।
तृप्ति धरा है नभ चुम्बन से।
एक घटा बरसे नयनन से।
धार नदी की लगी बहकने,
तट का मन भी लगा थिरकने।
कौन बचाए कौन उबारे,
साँस रेत की लगी दहकने।
न्यौछावर हैं ये तन मन से।
एक घटा नभ की पलकन से।
एक घटा बरसे नयनन से।
अर्चना उर्वशी
401, Ravi Building, Ravi Chinab Housing Society,
Jangid Complex, Near Silver Park, Off MTNL Road,
Mira Road (East), Thane- 401107
RELATED ARTICLES

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Latest