पंखों को फैलाकर उपवन में,
अब नाचें मोर।
नीले नीले अम्बर में,
घटा घिरी घनघोर।
पायल बजा रही है बूंदें,
पेड़ छेड़ते राग।
चिड़ियों करतीं चीं चीं चूं चूं ,
कांव कांव करें काग।
कोयल संग पपीहा गाए ,
झूम उठे वन- उपवन।
बादल की बारात सजी नभ ,
खेत बने हैं दुल्हन।
दौड़ रहे हैं नाले पोखर ,
झूमें ताल तलैया।
पकड़म पकड़ी खेलें कूदें,
बगुले और  मछैया।
गली-गली टर्राते कूदें,
फुदकें मेढ़क भाई,
धरती के सुंदर आंचल में,
कितनी रौनक छाई।
कल-कल बहती‌ नदियां सारी,
हरदम शोर मचाती।
जंगल में लौटी हरियाली,
देख दौर बरसाती।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.